Sharadiya Navratri: करना है इन देवी का दर्शन-पूजन तो पहले जानिए कैसे संभव होगा...

-मेला प्रबंधक ने जारी की गाइडलाइन

By: Ajay Chaturvedi

Published: 16 Oct 2020, 03:40 PM IST

रीवा. वासंतिक नवरात्र से शारदीय नवरात्र आ गया। इन दो नवरात्रों के दरम्यान नियमित छह माह व एक अधिमास बीत गया। पर कोरोना का कहर बदस्तूर जारी है। लिहाजा देवी दर्शन भी बच-बचा कर ही करना है। ऐसे में मां काली के दर्शन पूजन के लिए दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इनका पालन करते हुए ही देवी भक्त माता रानी के दरबार में पहुंच पाएंगे।

मेला प्रबंधक, तहसीलदार आरपी त्रिपाठी के अनुसार मां काली मंदिर का पट सुबह से शाम 8 बजे तक खुले रहेंगे। इस अवधि में दर्शनार्थी कतारबद्ध होकर दर्शन कर सकेंगे। मेला परिसर में दुकानों व सायकाल स्टैंड आदि की नीलामी नहीं होगी। किसी भी प्रकार का शुल्क दर्शनार्थियों को नहीं देना होगा। मंदिर में प्रवेश के लिए, मुख्य द्वार पर बैरिकेडिंग की जाएगी। प्रत्येक दर्शनार्थी को बारी-बारी से मंदिर परिसर में प्रवेश मिलेगा।

उन्होंने बताया कि माता रानी के दर्शन को आने वाले हर देवी भक्त को मुख पर मास्क लगा कर आना होगा। साथ ही लाइन में देह से दूरी के मानक का पालन भी करना होगा। दर्शन-पूजन के पश्चात भक्त कतार में ही बाहर निकलेंगे। मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश करना व माता को स्नान कराना पूर्णत: वर्जित रहेगा। बाहर से ही प्रसाद व फूलमाला का अर्पण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि उपरोक्त शर्तों का पालन न करने व अव्यवस्था फैलाने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। यह व्यवस्था नवरात्रि भर रानीतालाब स्थित मां काली मंदिर में दर्शन-पूजन के लिए लागू रहेगी।

मेला प्रबंधक के अनुसार इस बार मंदिर परिसर में प्रसाद आदि की दुकानें नहीं लगेंगी। सभी दुकानें परिसर के मुख्य द्वार के बाहर लगाई जाएंगी। मंदिर की साफ सफाई एवं पोताई मंदिर समिति द्वारा पुजारी के माध्यम से कराई जाएगी। नवरात्रि अवधि में मंदिर में प्रकाश व्यवस्था, सजावट आदि भी मंदिर समिति ही कराएगा। मंदिर में आने वाले सभी भक्तों पर निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरा भी लगेगा।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned