रोजगार मेले का शुभारंभ, यहां सैंकड़ों युवा रोजगार के लिये किये गए चयनित

कोरोना काल में बढ़ गया बेरोजगारी का आंकड़ा, रीवा में 80 हजार से अधिक युवा बेरोजगार। जिला स्तरीय रोजगार मेले में 4 हजार बेरोजगार युवाओं का हुआ पंजीयन, 1 हजार 500 से ज्यादा हुए चयनित।

By: Faiz

Published: 20 Jan 2021, 08:53 PM IST

रीवा/ कोरोना काल के चलते देशभर में बेरोजगारी का ग्राफ बहुत तेजी से बढ़ा है। कई कारोबार बंद हुए, तो कई लोगों की गैर सरकारी नौकरियां छूट गईं। कोरोना काल में लगे लॉकडाउन के बाद संक्रमण की रफ्तार कम होने पर बड़े शहरों से नौकरियां और कारोबार छोड़कर आए युवाओं ने स्थानीय स्तर पर नौकरियां तलाश कीं भी। कुछ को तो छोटा-मोटा काम मिल भी गया, लेकिन बड़ी आबादी अब भी बेरोजगार हैं। इसी के चलते कोरोना काल के बाद पहली बार जिला प्रशासन की ओर से रोजगार मेले का आयोजन किया तो, बेरोजगार युवाओं की भीड़ उमड़ पड़ी।

 

पढ़ें ये खास खबर- आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के तहत रोजगार मेले का आयोजन, युवाओं को दिये गए नियुक्ति पत्र

 

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

23 कंपनियों के स्टॉल पर पहुंचेहजारों युवा

टीआरएस कालेज परिसर में युवा पंजीयन केन्द्र से लेकर करीब 23 कंपनियों के स्टॉल पर पहुंचे। इंटरव्यू में करीब डेढ़ हजार युवाओं का चयन किया गया। चयन करने के बाद कंपनियों ने आवेदन जमा कर लिये गए हैं। जिन लोगों का चयन होगा, उन्हें कॉल करके सूचित किया जाएगा। रोजगार मेले में बीकॉम, एमकॉम, आइटीआई, इलेक्ट्रानिक, कंप्यूटर डिप्लोमा आदि की डिग्री लिए कंपनी में बाबू, वॉचमैन आदि की नौकरी मांगते नजर आए। मेले में 30 फीसदी लड़कियों की भीड़ रही।

 

पढ़ें ये खास खबर- गरीबों का निवाला छीनने वाला राशन माफिया : मंदिर की जमीन पर बना रखा था आलीशान ऑफिस, प्रशासन ने किया जमीदोज


जिले में 80 हजार से युवा बेरोजगार

इस दौरान कई युवाओं ने कहा कि, वो साल 2017 से रोजगार मेले में आ रहे हैं। चयन प्रक्रिया करने के बाद कंपनियां काल करना भूल जाती हैं। रोजगार उप संचालक अनिल दूबे के मुताबिक, विभिन्न क्षेत्र की 23 कंपनियां ने कैंप किया है। करीब एक हजार से अधिक युवाओं का विभिन्न ट्रेड में चयन किया गया है। इस दौरान कलेक्टर इलैयाराजा टी ने एक दिव्यांग को व्हीलचेयर भी उपलब्ध कराई। रोजगार मेले प्रदेश स्तरीय युवाओं के प्रमाण पत्र का प्रसारण भी दिखाया गया। रोजगार कार्यालय के आंकड़े पर नजर डालें तो कोरोना काल में बेरोजगार का आंकड़ा बढ़ गया है। प्रत्येक गांव में दस युवाओं का औसत लिया जाए, तो जिले में 80 हजार से अधिक युवा बेरोजगार हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned