लॉक डाउन : इमर्जेंसी में 5-10 फीसदी ही आरपेशन, रुटीन में डेढ़ हजार से ज्यादा की वेटिंग

विंध्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल में इमर्जेंसी के छोड़ रूटीन में आपरेशन के लिए तैयार नहीं चिकित्सक व मरीज

By: Rajesh Patel

Updated: 02 Jun 2020, 08:22 AM IST

रीवा. कोरोना प्रोटोकाल में दो माह से रूटीन के आपरेशन पर पूरी तरह बे्रक लगा है। विंध्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल में संजय गांधी अस्पताल में लॉकडाउन के दौरान इमर्जेंसी या फिर अति आश्यक आपरेशन ही हुए। एसजीएमएच में सर्जरी, यूरोलॉजी, इएनटी सहित अन्य विभाग में इमर्जेंसी में भी महज 5-10 फीसदी आपरेशन हुए। जबकि रूटीन के आरपरेशन टाल दिए गए हैं। प्लान के आपरेशन के लिए लॉकडाउन खत्म होने का इंतजार है। अकेले एसजीएमएच में इएनटी, न्यूरोलॉजी, सर्जरी, आंख सहित अन्य विभाग में रुटीन के डेढ़ हजार से ज्यादा के आपरेशन वेटिंग में हैं।

इमर्जेंसी में ही सरकारी अस्पतालों में अपरेशन चालू
इमर्जेंसी में ही सरकारी अस्पतालों में अपरेशन चालू है। अकेले एसजीएमएच के सर्जरी विभाग में सामान्य दिनों की अपेक्षा महज 5 फीसदी भी आपरेशन नहीं हुए। इस विभाग में गंभीर मरीजों के हर माह औसत 25-30 आपरेशन हो रहे थे। लेकिन, लॉकडाउदन के दौरान बीते दो माह में अति आश्वयक यानी इमर्जेंसी में 5-10 अपरेशन ही हुए। जबकि रूटीन में आपरेशन एक भी नहीं हुए। ट्रामा सेंटर पर चिकित्सकों ने घायलों को टाका लगाकर ही काम चलाया। इसके अलावा आर्थोपेडिक में लॉकडाउन के दौरान अब तक महज 13 आपरेशन हुए हैं। इएनटी विभाग में डॉ सुनील मोपाची कहते हैं कि सामान्य दिनों में गंभीर मरीजों के 50 से अधिक आपरेशन होते थे। लॉकडाउन के दौरान अब तक लगभग 13 आपरेशन हुए हैं।

सामान्य दिनों में रूटीन के आपरेशन
सामन्य दिनों में रुटीन के आपरेशन हर माह 200 से 250 तक होते थे। इसी तरह न्यूरो सर्जरी, यूरोलॉजी, आंख सहित अन्य विभागों में कई अन्य तरह के आरपेशन नहीं हो रहे हैं। संजय गांधी अस्पताल के अधीक्षक डॉ पीके लखटकिया कहते हैं कि अस्थिरोग विभाग में लॉकडाउन के दौरान इमर्जेंसी में 5 फीसदी ही आपरेशन हुए। दोनों माह का मिलाकर 8-10 आपरेशन हुए हैं। अस्तिरोग के आपरेशन के लिए जून, जुलाई और अगस्त माह में अधिक मरीज आते हैं। इसके अलावा नंबर, फरवरी में बढ़ जाते हैं। दिसंबर, जनवरी में कम होते हैं। लॉकडाउन के दौरान इमर्जेंसी में ही आपरेशन हो रहे हैं। प्लान के आपरेशनों पर पूरी तरह रोक है।

लॉकडाउन में अपरेशन थियेरेटर लॉक
विंध्य के सबसे बड़े हॉस्पिटल में मेडिसिनि विभाग को छोड़ शेष सभी विभागों में अपरेशन थियेटर पूरी तरह लॉक हैं। इमर्जेंसी सेवाओं के अलावा रुटीन में आ रहे मरीजों को आपरेशन कक्ष तक नहीं ले जाया गया। सर्जरी, इएनटी को छोड़ अधिकांश थियेटर लॉक हैं।

वर्जन...
अस्पताल में अति आश्वयक आपरेशन ही किए जा रहे हैं। रूटीन के मरीजों का आपरेशन अभी चालू नहीं किया गया है। कोरोना प्रोटोकाल के तहत अस्पताल में फिजिकल डिस्टेंस को लेकर रूटीन के आपरेशन रोक दिए गए हैं। इमर्जेंसी में ही मरीजों के आपरेशन किए जा रहे हैं।
डॉ. पीके लखटकिया, अधीक्षक, एसजीएमच

Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned