कोरोना संक्रमण पर बोले कलेक्टर, लोगों ने लापरवाही की तो फिर लगाएंगे लॉकडाउन

लॉकडाउन के दूसरे दिन भी बाजार रहे बंद, सड़कें भी रहीं सूनी, आज से खुलेंगे दफ्तर और बाजार
- व्यवस्थाओं को लेकर कलेक्टर ने अधिकारियों के साथ बैठकें की और शहर का भी जायजा लिया
- ग्रामीण क्षेत्रों से शहर के नजदीक तक आ रहे वाहन, शहर के भीतर वाहन के लिए लोग परेशान

By: Mrigendra Singh

Published: 12 Apr 2021, 09:52 AM IST



रीवा। लॉकडाउन के लगातार दूसरे दिन भी शहर के बाजार में दुकानें बंद रहीं। सड़कें भी सूनी रहीं लेकिन कुछ लोग आवश्यक कार्यों की वजह से सड़कों पर देखे गए। जांच के लिए पुलिस ने जगह-जगह चेक प्वाइंट लगाए थे। अनावश्यक घूमने वालों पर जुर्माना भी किया गया। लॉकडाउन के नियमों का पालन कराने के लिए प्रशासन एवं पुलिस के अधिकारियों ने शहर का भ्रमण किया। जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण की वजह से शुक्रवार की सायं छह बजे से सोमवार की सुबह छह बजे तक के लिए ६० घंटे का लॉकडाउन घोषित किया गया है। जिसमें लोगों ने स्वयं ही घरों के भीतर रहकर लॉकडाउन के नियमों का पालन किया है। अत्यावश्यक सेवाओं को इसमें छूट दी गई थी। इसलिए लोगों को अपनी आवश्यकताओं की सामग्री के लिए अधिक भटकना नहीं पड़ा। दूध, दवा, फल-सब्जी आदि की दुकानें शहर के हर हिस्से में खुली रहीं जिसके चलते लोगों को दूसरे हिस्सों तक जाने की जरूरत नहीं हुई।
लॉकडाउन के कारण यात्री बसें भी बंद की गई हैं। शहर से वाहन नहीं चल रहे हैं लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों से बसें सवारियों को लेकर रीवा पहुंच रही हैं। यहां शहर की सीमा पर यात्रियों को उतार रहे हैं, जिसके बाद वह झोले लेकर शहर में भटकते नजर आए। वहीं कुछ यात्री बसें चोरी से सवारियां लेकर शहर के बाहर जा रहीं थी, जिसे पुलिस ने पकड़कर चालानी कार्रवाई की है। इसके साथ ही शहर में कुछ जगह आटो चालक भी सवारियां ढोते नजर आए, जिन पर पुलिस ने कार्रवाई भी की है।


- आने वाले लोग परेशान
ट्रेनों से आने वाले लोग अधिक परेशान हो रहे हैं। आटो-टैक्सियां नहीं चलने की वजह से जिन लोगों के पास वाहन की सुविधा स्वयं नहीं है, वह पैदल ही रेलवे स्टेशन से शहर में चलते नजर आए। ऐसे लोगों को क्वारंटीन करने के लिए भी अभी कोई इंतजाम नहीं है। कलेक्टर ने कहा है कि बाहर से आने वाले लोगों को एक सप्ताह तक क्वारंटीन रखा जाए। साथ ही उन्होंने सिटी बसों की सुविधा शहर के भीतर रेलवे से आने वाले यात्रियों को पहुंचाने उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। जिसके चलते कुछ सिटी बसें रेलवे स्टेशन से शहर तक सवारियां लेकर आईं।


- फिलहाल लॉकडाउन बढ़ाने पर विचार नहीं
कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है, तो प्रशासन पर एक ओर शहर के आम लोगों का दबाव लॉकडाउन और बढ़ाने का है। वहीं व्यापारी एवं अन्य लोग फिलहाल लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में नहीं हैं। गत दिवस जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक हुई थी। जिसमें सांसद, विधायक एवं अन्य लोग शामिल हुए। सभी ने तय किया है कि रीवा में दो दिन का ही फिलहाल लॉकडाउन रहेगा। जबकि संभाग के सिंगरौली जिले में लॉकडाउन १५ तक के लिए बढ़ा दिया गया है। इसी तरह पन्ना,अनूपपुर सहित अन्य शहरों में भी लॉकडाउन बढ़ाया गया है। रीवा में संक्रमण तेजी के साथ फैल रहा है। रविवार को 107 नए मरीज पाए गए हैं।
-------------
हालात नहीं सुधरे तो बड़े लॉकडाउन पर विचार
कोरोना संक्रमण रोकने के लिए दो दिन के लॉकडाउन के साथ ही लोगों से अनावश्यक घरों से बाहर नहीं निकलने की अपील की जा रही है। साथ ही मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का अनिवार्य रूप से पालन किए जाने प्रशासन एवं सामाजिक संगठनों की टीमें लगी हैं। कलेक्टर इलैयाराजा टी ने स्वयं पूरे मामले की निगरानी का जिम्मा ले रखा है। वह स्वास्थ्य व्यवस्थाओं से लेकर अन्य सभी की हर दिन समीक्षा कर रहे हैं। कलेक्टर ने कहा है कि लोग स्वयं कोरोना संक्रमण रोकने पहल करें। यदि हालात नहीं संभलेंगे तो लंबा लॉकडाउन लगाया जा सकता है।
---------------

--
लॉकडाउन अभी दो दिन का घोषित किया गया था। जिला आपदा प्रबंधन कमेटी के सुझावों पर आगे निर्णय लिया जाएगा। वहीं बढ़ते कोरोना संक्रमण के मरीजों को उपचार व्यवस्था देने के लिए अस्पतालों की सुविधाओं पर फोकस किया जा रहा है। लोगों से अपील भी कर रहे हैं स्वयं कोरोना संक्रमण रोकने के लिए नियमों का पालन करें। हालात पर पूरी नजर है, आवश्यकता के अनुरूप निर्णय लेंगे।
डॉ. इलैयाराजा टी, कलेक्टर रीवा
-----

COVID-19
Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned