Lockdown : सेवा का ऐसा जुनून...पिता की मौत के दूसरे दिन से ही बेटा गरीबों को बांट रहा भोजन

पिता की मौत होने के 24 घंटे के बाद बेटा काम पर लौटा, लॉक डाउन में फंसे हजारों लोगों को भोजन बांटने में कर रहा सहयोग

By: Rajesh Patel

Published: 18 Apr 2020, 12:22 PM IST

रीवा. सेवाभाव का ऐसा जज्बा कि जिसकी जितनी तारीफ करें कम होगी। घर में मातम का दुख दर्द भूलकर भूखे गरीबों को समाजसेवियों के सहयोग से भोजन वितरण का काम में जुट गया। शहर से सटे बरा कोठार निवासी लक्षण साकेत की दो दिन पहले हार्ट अटैक की मृत्यु हो गई। दाहसंस्कार के दूसरे दिन ही बेटा विजय लॉकाडउन में फंसे गरीबों को भोजन वितरण के काम में जुट गया। गरीबों का दुख दर्द एक गरीब बखूबी समझ सकता है कोई भोजन से वंचित न हो इसी इसी सोच के साथ स्वर्गीय लक्ष्मण के पुत्र, भाई और भतीजे काम कर रहे है।

पिता भी जरूरतमंदों को भोजन वितरण में कर रहे थे सहयोग
जरूरतमंदों में ये भोजन पहुंचने का काम कर रहे थे इसी दौरान लक्ष्मण साकेत की मौत बुद्धवार की रात हार्ड अटैक आने से हो गई। परिजनों ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान पिता गरीबों को भोजन वितरण कराने में हाथ बंटा रहे थे। पिता की मौत से आहत होने के बावजूद बेटा विजय का भोजन वितरण का काम अनवरत जारी है। विजय ने कहा कि इससे पहले लाख डाउन के दौरान पिता गरीबों को भोजन बांट रहे थे इसलिए वह सेवा ना बंद हो और गरीबों को सुविधा ना हो भोजन वितरण में सहयोग कर रहा हूं इसमें विजय के चाचा और चचेरे भी भरपूर सहयोग दे रहे हैं।

सेंट्रल किचेन के सहयोग से किया जा रहा वितरण
जिला प्रशासन की ओर से सेंट्रल किचेन शेड से भोजन आपूर्ति के बाद विजय व अन्य साथियों के साथ बायपास सहित आस-पास के गांवों में पैदल आने जाने वाले गरीब व बस्तियों के गरीबों को पक्का भोजन वितरण करने के काम में लगे हैं।

Corona virus COVID-19
Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned