मणिपुर-नागालैंड के छात्र विंध्य के टूरिस्ट स्पॉट का करेंगे विजिट

मणिपुर-नागालैंड के छात्र विंध्य के टूरिस्ट स्पॉट का करेंगे विजिट

By: Bajrangi rathore

Published: 27 Nov 2019, 10:33 PM IST

रीवा। मणिपुर और नागालैंड के दो कॉलेज के करीब 100 स्टूडेंट्स, स्टॉफ के साथ विंध्य का विजिट करने आ रहे हैं। वे यहां पांच दिनों तक रहेंगे। इस दौरान वे स्थानीय कॉलेज के स्टूडेंट्स एवं प्रोफेसर से मुखातिब होंगे। यहां मणिपुर व नागालैंड के कल्चरल प्रोग्राम प्रजेंट करेंगे। उनका पांच दिन का कार्यक्रम निर्धारित किया गया है।

फिलहाल तिथि निर्धारित नहीं की गई है, संभवत: उनका यह भ्रमण 25 दिसंबर से 15 मार्च के बीच हो सकता है। राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान ने एक भारत श्रेष्ठ भारत कार्यक्रम के तहत देश भर में यह प्रोग्राम चलाया है। जिसमें मणिपुर एवं नागालैंड के दो कॉलेजों के स्टूडेंट्स को विंध्य का विजिट करने के लिए चुना गया है।

रीवा के 100 स्टूडेंट्स जाएंगे मणिपुर नागालैंड

मणिपुर एवं नागालैंड कॉलेज के स्टूूडेंट्स रीवा आएंगे तो रीवा के कॉलेज से स्टूडेंट्स भी विजिट में मणिपुर एवं नागालैंड जाएंगे। इसके लिए जिले के दो कॉलेजों को चुना गया है। जिसमें शासकीय ठाकुर रणमत सिंह कॉलेज एवं मॉडल साइंस कॉलेज शामिल हैं। इन कॉलेजों के 50-50 स्टूडेंट्स को नागालैंड एवं मणिपुर का विजिट कराया जाएगा।

वहां खा मणिपुर कॉलेज काकचिंग एवं फेक शासकीय कॉलेज फेक में कार्यक्रम होगा। जहां विंध्य के रहन-सहन, संस्कृति एवं भाषा का प्रदर्शन करेंगे। कई कल्चरल प्रोग्राम प्रजेंट किए जाएंगे। वहीं मणिपुर एवं नागालैंड से रीवा आने वाले स्टूडेंट्स टीआरएस एवं मॉडल साइंस कॉलेज में कार्यक्रम प्रजेंट करेंगे।

मणिपुर एवं नागालैंड की संस्कृति एवं भाषा पर पांच दिन तक रीवा में कार्यक्रम चलेगा। मंत्रालय से पत्र आने के बाद मंगलवार को रीवा के टीआरएस कॉलेज एवं मॉडल साइंस कॉलेज प्रबंधन ने इस प्रोग्राम के संबंध में अपने स्टूडेंट्स को जानकारी दी गई।

यह है उद्देश्य

यह कार्यक्रम एक भारत श्रेष्ठ भारत के अंतर्गत देशभर में चलाया जा रहा है। जिससे देश की विविध संस्कृति को सभी समझें और आपस में प्रेम करें। प्रदेश के 200 कॉलेजों को इसके लिए चयनित किया गया है। जिन्हें अलग-अलग प्रदेशों की कॉलेजों में भ्रमण कराया जाएगा।

प्रत्येक दिन अलग-अलग कार्यक्रम

इनका पांच दिन का कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। जिसमें प्रत्येक दिन अलग-अलग कार्यक्रम होंगे। कॉलेज के स्टूडेंट्स एवं स्टॉफ के बीच परिचय एवं संवाद से कार्यक्रम की शुरूआत होगी।

इसके बाद एक-दूसरे की भाषा, रहन-सहन एवं संस्कृति को समझने का प्रयास करेंगे। स्टूडेंट्स अपने यहां के कल्चरल प्रोग्राम प्रस्तुत करेंगे। टूरिस्ट स्पॉट का विजिट करेंगे। आसपास के गांव का भी भ्रमण करेंगे।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय से निर्देश मिले हैं। जिसके अंतर्गत मणिपुर एवं नागालैंड के दो कॉलेज के स्टूडेंट्स टीआरएस कॉलेज का विजिट करेंगे व यहां के स्टूडेंट्स विजिट के लिए नागलैंड एवं मणिपुर जाएंगे।
प्रो.रामलला शुक्ल,प्रिंसिपल टीआरएस कॉलेज

एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत रूसा की ओर से कॉलेज में कार्यक्रम कराने के निर्देश मिले हैं। इससे देश के अलग-अलग क्षेत्रों की भाषा एवं संस्कृति को समझने का मौका मिलेगा। इसका उद्देश्य देश के अलग - अलग संस्कृति एवं भाषा को सभी समझ सकेें व एक -दूसरे से प्रेम करें।
प्रो.पंकज श्रीवास्तव, प्रिंसिपल मॉडल साइंस

Bajrangi rathore Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned