तिरंगे में लिपटा गांव पहुंचा शहीद का पार्थिव शरीर, नम आंखों से दी गई अंतिम विदाई

सेना के जवानों ने दिया गार्ड ऑफ आनर, बड़े भाई फौजी अरविंद ने दी मुखग्नि, हजारों लोगों ने दी श्रद्धांजलि, गढ़ से गोदरी गांव तक शहीद के पार्थिव शरीर के साथ निकला काफिला

रीवा। चार दिन के इंतजार के बाद जम्मू कश्मीर के बारामूला में ड्यूटी के दौरान शहीद हुए रीवा के सपूत अखिलेश कुमार पटेल का पार्थिव शरीर गृह ग्राम गोंदरी पहुंचा। जहां एक ओर जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया वहीं हजारों लोगों ने नम आंखों से शहीद को अंतिम विदाई दी। बड़े भाई फौजी अरविंद कुमार पटेल ने मुखाग्नि दी। गढ़ से लेकर गोदरी गांव तक शहीद के पार्थिव शरीर के साथ लंबा काफिला निकला।

बारामूला में हुए थे शहीद
श्रीनगर के बारमूला में रीवा जिले के गोदरी गांव निवासी अखिलेश कुमार पटेल पिता रमेश पटेल शहीद हो गए थे। शनिवार की रात पार्थिव शरीर को गढ़ थाने में रखा गया था। रविवार की सुबह एम्बुलेंस को फूल मालाओं से सजाकर पार्थिव शरीर को गृहग्राम गोंदरी के लिए रवाना किया गया। इस दौरान क्षेत्र के हजारों युवकों ने बाइक रैली निकाली। हांथ में तिरंगा झंडा लिये लोग भारत माता की जय के नारे लगाते रहे। जगह-जगह लोगों ने शहीद को श्रद्धासुमन अर्पित किए। पूरे गांव को लोगों ने तिरंगे झंडे से सजा दिया था।

तिरंगा लेकर सड़कों के किनारे खड़े रहे लोग
शहीद को श्रद्धांजलि देने के लिए लोग हांथों में तिरंग झंडा लेकर खड़े रहे। वाहनों के काफिले के साथ पार्थिव शरीर जैसे ही उनके गृहग्राम गोंदरी पहुंचा तो हजारों लोगों का सैलाब उनके अंतिम दर्शन के लिए उमड़ पड़ा। सेना के जवानों ने पार्थिव शरीर को उनके घर पहुंचाया। इस दौरान परिवार सहित अन्य लोगों ने उनके अंतिम दर्शन किए। चौथे दिन कलेजे के टुकड़े का पार्थिव शरीर घर पहुंचने पर परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था। घर में ही सेना के जवानों ने उनको सलामी दी। तिरंगे झंडे में लिपटा उनका पार्थिव शरीर घर से अंतिम संस्कार के लिए लाया गया। पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। सेना के जवानों ने उनको गार्ड आफ आनर दिया। बड़े भाई अरविंद कुमार पटेल के द्वारा मुखग्नि दी गई।

माटी के लाल की शहादत पर हर आंख से छलके आंसू
अंतिम संस्कार के दौरान पूरे गांव में मातम छा गया था। जवान की शहादत पर हर आंख से आंसू छलक आए। पार्थिव शरीर पहुंचने के बाद लोग अपनी आंखों से आंसू नहीं रोक पाए। नम आंखों ने शहीद को अंतिम विदाई दी। अंतिम संस्कार के दौरान हजारों लोग मौजूद रहे। कई बार भीड़ को नियंत्रित करने में पुलिस के भी पसीने छूट गए।

Show More
Shivshankar pandey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned