scriptmercilessness from the voiceless: more than half a hundred cattle thro | बेजुबान से निर्दयता: खदान में कूदा दिये गये आधा सैकड़ा से अधिक मवेशी, भर रहा पानी | Patrika News

बेजुबान से निर्दयता: खदान में कूदा दिये गये आधा सैकड़ा से अधिक मवेशी, भर रहा पानी

मऊगंज थाने के अमोखर पंचायत का मामला, भूख से मर रहे बेजुबान

रीवा

Published: January 10, 2022 09:43:47 pm

रीवा। जिले में बेजुबान जानवरों से निर्दयता थमने का नाम नहीं ले रही है। कहीं बेजुबानों के मुंह में तार बांधकर छोड़ दिया जाता है तो कहीं उन्हें बाड़े में बंद कर दिया जाता है। ऐसी निर्दयता का एक मामला सोमवार को समने आया है जहां आधा सैकड़ा से अधिक जानवरों को मुरुम की खदान में कूदा दिया गया है। उसके चारों तरफ बाड़ा लगा दिया गया है। बारिश के बाद अब खदान में पानी भरना शुरू हो गया है जिससे भूखे प्यासे जानवर ठंड में मर रहे है।
patrika
mercilessness from the voiceless: more than half a hundred cattle thro
लोगों ने खदान में धकेले जानवर
मामला मऊगंज थाने के अमोखर पंचायत का है। यहां पर आवारा जानवरों के साथ लोगों ने यह निर्दयता की है। रात के समय फसलों को चट करने वाले जानवरों को लोगों ने कुछ दिन पूर्व गांव में स्थित एक मुरुम की खदान में कूदा दिया। करीब पचास से अधिक जानवरों को खदान में धकेल दिया गया जो अब कई दिनों से खदान के अंदर भूख प्यास से तड़प रहे है।
बारिश की वजह से खदान में भर गया पानी
हाल ही में हुई बारिश के बाद खदान में पानी भरना शुरू हो गया है जिसकी वजह से अब जानवर भीषण ठंड में पानी के बीच खड़े हुए है। लोगों ने बाड़ा भी लगा दिया है जिससे जानवर बाहर भी नहीं निकल सकते है। खदान में उनको भूसा व चारा तक नसीब नहीं हो रहा है। रात के समय अक्सर जानवर किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचाते है और अपनी फसलों को बचाने के लिए लोग उनके साथ निर्दयता करते है।
एसडीएम व पुलिस बल मौके पर पहुंचा, जानवरों को निकालने का प्रयास
इस निर्दयता की सूचना मिलते ही एसडीएम मऊगंज एपी द्विवेदी सहित पुलिस बल मौके पर पहुंच गया। खदान में बड़ी संख्या में जानवर फंसे हुए थे जिनको अब लोगों की मदद से निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इन जानवरों को प्रशासन किसी गौशाला शिफ्ट करवायेगा ताकि उनकी देखभाल हो सके। इसके साथ ही लोगों को जानवरों के साथ इतनी निर्दयता नहीं बरतने की हिदायत दी गई है।
नहीं शुरू हुई पंचायत की गौशाला
ग्राम पंचायत अमोखर में शासन द्वारा लाखों रुपए की लागत से गौशाला का निर्माण कराया गया है लेकिन यह अभी तक चालू नहीं हो पाई है। गौशाला पूरी तरह बनकर तैयार हो गई है। यही कारण है कि लोग आवारा जानवरों के साथ इस तरह की निर्दयता कर रहे है। आवारा जानवरों को निर्दयता से बचाने के लिए पंचायतों में गौशालाओं का निर्माण करवाया गया है लेकिन उसका लाभ मिलता नजर नहीं आ रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.