गुजरात से भूखे-प्यासे किराया देकर बार्डर पर पहुंचे प्रवासी मजदूर, भोजन कराकर भेजवाया घर

आधा सैकड़ा से अधिक लोग पहुंचे रीवा, इंजीनियरिंग कॉलेज में हुई स्क्रीनिंग

By: Anil singh kushwah

Published: 25 May 2020, 02:04 AM IST

रीवा. प्रवासी मजदूरों के घर वापसी का सिलसिला जारी है। बेंगलुरु से यात्रियों को लेकर स्पेशल ट्रेन रविवार सुबह रीवा पहुंची। ट्रेन में सवार यात्रियों को भोजन प्रदान करने के बाद उन्हें घरों के लिए रवाना कर दिया गया। ट्रेन में संदिग्ध यात्री भी मिले हैं जिनको दूसरे यात्रियों से अलग कर दिया गया। कर्नाटक के बेंगलूरु रेलवे स्टेशन से रविवार सुबह ट्रेन पहुंची थी। ट्रेन एक दिन पूर्व रवाना हुई थी जो सुबह करीब दस बजे रीवा आई। इस ट्रेन में 932 यात्री सवार थे जिसमें कुछ यात्रियों को इटारसी, जबलपुर रेलवे स्टेशनों में उतारा गया है जिनको वहां से बसों के माध्यम से भेजा गया है। 394 यात्रियों को लेकर यह ट्रेन रीवा पहुंची थी जिसमें शहडोल के 21, सीधी 55, सिंगरौली के 26, अनूपपुर 14, छतरपुर 29, पन्ना 98, रीवा 21, सतना के 130 यात्री सवार थे।

संदिग्धों की जांच कर भेजा जाएगा सेंपल
इन सभी यात्रियों को भोजन प्रदान करने के बाद उनको घरों के लिए रवाना किया गया है। रीवा के यात्रियों की रेलवे स्टेशन परिसर में ही जांच की गई है। इनमें 9 यात्री संदिग्ध मिले हैं जिनको दूसरों से अलग कर दिया गया है। उनके शरीर का तापमान काफी ज्यादा था और उनके संक्रमित होने की संभावना थी। उन सभी को जांच के लिए भेजा जाएगा। रीवा जिले के सभी यात्रियों को बसों के माध्यम से तहसील मुख्यालय भेजा गया है जहां उनकी पुन: जांच होगी और उनको चौदह दिन के लिए होम क्वारंटीन रहने की हिदायत दी गई है।

पनवेल से चार घंटे विलंब से पहुंची ट्रेन
रविवार को श्रमिकों को लेकर दूसरी ट्रेन महाराष्ट्र के पनवेल से रीवा आई है। ट्रेन को सांयकाल 6 बजे रीवा पहुंचना था लेकिन करीब चार घंटे विलंब से यह ट्रेन रीवा आई है। ट्रेन में 683 यात्री सवार थे जिसमें 30 जबलपुर, 8 इटारसी, 5 खंडवा व तीन अन्य यात्रियों को उतारा गया है। इसके अतिरिक्त 637 यात्रियों को लेकर रात में ट्रेन रीवा आई है। इसमें डिंडोरी के 5, शहडोल 2, उमरिया 1, रीवा 422, सतना 44, सीधी 163 लोग सवार थे।

Anil singh kushwah Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned