scriptnational haiway, rewa sohagi black spot rewa mp | संभलकर चलें ! हाइवे पर यहां भी खड़े हैं मौत के वाहन, जिम्मेदारों को खबर नहीं | Patrika News

संभलकर चलें ! हाइवे पर यहां भी खड़े हैं मौत के वाहन, जिम्मेदारों को खबर नहीं

 

- छतरपुर के बड़ा मलहरा में हुई दुर्घटना के बाद हाइवे पर खड़े वाहनों पर उठे सवाल

रीवा

Published: April 04, 2022 09:29:21 am


रीवा। नेशनल हाइवे में जहां वाहनों की रफ्तार अधिक होती है। वहां पर सुरक्षित सफर के नाम पर ही टोल टैक्स भी वसूले जाते हैं। रीवा जिले में नेशनल हाइवे में पूरी तरह से ठेका कंपनियों की मनमानी नजर आती है। हाल ही में छतरपुर के बड़ा मलहरा में हाइवे में जा रहे न्यायाधीशों की कार सड़क पर पहले से खड़े टैक्टर से जा टकराई। कार की रफ्तार अधिक होने की वजह से भीषण दुर्घटना हो गई और मौके पर ही एक न्यायाधीश की मौत हो गई। जबकि दूसरे की हालत गंभीर बनी हुई है। इस हादसे में जान गवाने वाले न्यायाधीश ऋषि तिवारी सीधी जिले के हनुमानगढ़ के अधिवक्ता उमेश कुमार तिवारी के पुत्र थे। इस निधन के चलते पूरे संभाग के लोगों ने शोक संवेदनाएं व्यक्त की हैं और ऐसी दुर्घटनाएं दोबारा नहीं हो, उसके इंतजाम करने की भी मांग उठाई है।
दुर्घटना के बाद रीवा जिले के नेशनल हाइवे में रियलिटी चेक के लिए 'पत्रिकाÓ की टीमों ने कई जगह का जायजा लिया। जिसमें रीवा से हनुमना और मनगवां से चाकघाट के मध्य हाइवे में दोनों किनारें में जगह-जगह ट्रक और टैक्टर ट्रालियां खड़ी पाई गईं। इतना ही नहीं सड़क किनारे बालू, पत्थर एवं अन्य सामग्री पड़ी है। यदि कोई चलते समय सामने कोई वाहन या फिर जानवर आ जाए तो किनारे से निकलने के लिए जगह ही कई स्थानों पर नहीं है। ऐसे में दुर्घटनाएं होना स्वाभाविक है। रीवा जिले के दोनों हाइवे में आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। इसके बाद भी ठेका कंपनियां व्यवस्था नहीं बना रही हैं, जबकि टोल टैक्स की मनमानी और गुंडागर्दी के दम पर वसूली लगातार जारी है। सड़क पर जिस तरह से घंटों वाहन खड़े रहते हैं उनसे टकराने की आशंका बनी रहती है। इसकी शिकायतें भी लोगों ने की है लेकिन किसी तरह की कार्रवाई नहीं की जा रही है।
---
rewa
national haiway, rewa sohagi black spot rewa mp

कलेक्टर के निर्देश के बाद भी व्यवस्था नहीं बनी


हाल ही में सोहागी पहाड़ सहित अन्य स्थानों पर लगातार हो रही दुर्घटनाओं के चलते कलेक्टर ने आरटीओ, एमपीआरडीसी के अधिकारियों को मौके पर भेजकर व्यवस्था बनाने के लिए कहा था। जिसमें कुछ आंशिक रूप से काम हुआ है लेकिन अधिकांश जगह पर पहले जैसे ही हालात हैं। ठेका कंपनियों को ध्यान केवल टोल वसूली पर है। जबकि रास्ते में कई अवरोधक मौजूद होते हैं, जिनको हटाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीश्योक नदी में गिरा सेना का वाहन, 26 सैनिकों में से 7 की मौतआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानतRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चआजम खान को सुप्रीम कोर्ट से फिर बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी पर नहीं चलेगा बुलडोजरMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.