सरकार के आदेश की प्रतियां जलाने वाले 27 शिक्षकों को नोटिस, जानिए क्यों

शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने से नाराज शिक्षकों ने विभागीय आदेश की प्रतियां जलना महंगा पड़ा है। लोक शिक्षण संचालक ने इससे शिक्षकों की अनुशासनहीनता मानते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस पर डीइओ ने 27 शिक्षकों को नोटिस दिया है।

रीवा। शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने से नाराज शिक्षकों ने विभागीय आदेश की प्रतियां जलना महंगा पड़ा है। लोक शिक्षण संचालक ने इससे शिक्षकों की अनुशासनहीनता मानते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस पर डीइओ ने २७ शिक्षकों को नोटिस दिया है। इस कार्रवाई के बाद शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया है।

बताया जा रहा है कि स्कूूल शिक्षा विभाग ने दक्षता परीक्षा में दूसरी बार अनुत्र्तीण रहे शिक्षकों को अनिवार्य रुप से सेवानिवृत्त दे दी है। प्रदेश में इस तक 16 शिक्षकों को सरकार ने अनिवार्य सेवानिवृत्त दी है। इसमें अकेले विंध्य के 13 शिक्षक शामिल है। सरकार के इस निर्णय के विरुद्ध शिक्षक ने दूसरे दिन सोमवार को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के बाहर शासन के इस आदेश की प्रतियां जलाकर विरोध प्रदर्शन किया था। साथ ही इस संबंध में एसडीएम को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर तत्काल सेवा बहाल करने की मांग की थी। इसकी जानकारी होने पर लोक शिक्षण संचालक ने 3 दिसंबर को सभी डीइओ को बुधवार की 11 बजे तक आदेश की प्रति जलाने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई करने का आदेश दिया था। इस पर डीइओ ने 27 शिक्षकों को नोटिस जारी किया है। नोटिस मिलते ही शिक्षकों में हड़कंप मच गया है। बताया गया है कि शिक्षक स्कूलों में पढ़ाते नहीं और कार्रवाई होने पर हंगामा करते हैं।

जारी किया है नोटिस
शासन के आदेश की प्रतिंया जलाने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई के निर्देश मिले थे। इस पर अभी २७ शिक्षकों को नोटिस जारी किया गया है। जबाव मिलने के बाद अगामी कार्रवाई की जाएगी।
आरएन पटेल डीइओ रीवा

Lokmani shukla
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned