बेटे को जिंदा देख भावुक हुई मां, 5 साल तक पाकिस्तान की जेल में बंद था युवक

अनिल साकेत 5 साल पूर्व लापता हुआ था जिसकी गुमशुदगी नईगढ़ी थाने में दर्ज थी।

By: Pawan Tiwari

Published: 19 Sep 2020, 10:54 AM IST

रीवा. 5 साल तक पाकिस्तानी कैद में रहने वाला रीवा का अनिल शुक्रवार को सही सलामत अपने घर पहुंच गया। बेटे के जिंदा लौट कर आने की उम्मीद छोड़ चुके परिजनों के सामने जब वह सही सलामत गाड़ी से उतरा तो वे अपनी आंखों से आंसू नहीं रोक पाए और सभी ने उसको गले से लगा लिया।

नईगढ़ी थाने के छदनहाई गांव निवासी अनिल साकेत 5 साल पूर्व लापता हुआ था जिसकी गुमशुदगी नईगढ़ी थाने में दर्ज थी। उसके जिंदा लौट कर आने की परिजन उम्मीद छोड़ चुके थे , लेकिन गत वर्ष उसके पाकिस्तानी के लाहौर जेल में होने की सूचना ने परिजनों के मन में भी आश जगाई। पाकिस्तान ने 14 सितंबर को 111 लोगों को अटारी बॉर्डर से रिहा किया था जिनमें लॉकडाउन की वजह से फंसे फंसे लोगों के साथ रीवा का अनिल भी शामिल था। अनिल लाहौर जेल में बंद था। उसे भी पाकिस्तानी ने रिहा किया।

शुक्रवार को सकुशल अपने घर लौटने पर परिजनों की खुशी का ठिकाना न रहा। उन्होंने बच्चे को गले लगा लिया। एक लंबे समय बाद अपनों के बीच पहुंचा युवक भी अपनी आंखों से आंसू नहीं रोक पाया। घर पहुंचने के बाद सबसे पहले युवक अपने बड़े पिता रामनिवास साकेत को पहचाना और उनके पैर छुए। उसके बाद अपने दादा व पिता को भी पहचान गया। घर पहुंचने पर परिजनों ने भी उसकी आरती उतारी और माला पहनाकर तिलक लगाया। मां ने 5 साल से बिछड़े अपने लाल को सीने से लगा लिया। धीरे-धीरे वह परिवार के सदस्यों को पहचानने का प्रयास कर रहा था।

Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned