फोटो मीटर रीडिंग में बिजली बिलों की गड़बडियों देख उड़ जाएंगे होश

बिजली बिलों की गड़बड़ी दिनोंदिन बेपटरी होती जा रही है। इन बिलों को सुधरवाने उपभोक्ता कार्यालयों की चक्कर काट रहे है। स्थिति यह है कि तीन महीनें बाद भी शिकायत दूर नहीं हो पा रही है। विद्युत कर्मियों की लापरवाही से उपभोक्ता सरकार की महात्वाकांक्षी इंदिरा गृह ज्योति योजना से भी वंचित हो रहे

रीवा। बिजली बिलों की गड़बड़ी दिनोंदिन बेपटरी होती जा रही है। इन बिलों को सुधरवाने उपभोक्ता कार्यालयों की चक्कर काट रहे है। स्थिति यह है कि तीन महीनें बाद भी शिकायत दूर नहीं हो पा रही है। विद्युत कर्मियों की लापरवाही से उपभोक्ता सरकार की महात्वाकांक्षी इंदिरा गृह ज्योति योजना से भी वंचित हो रहे। जतहरी निवासी गीता कुशवाहा ने बताया कि नया मीटर अभी महज 68 यूनिट चला है। इसके बावजूद 145 यूनिट का खपत का बिल जारी किया गया है। ऐसेे में 100 यूनिट खपत होने के बावजूद इंदिरा गृह ज्योति योजना में अब 100 की जगह 385 का बिल अदा करना पड़ रहा है।

बताया जा है कि बिजली बिलों में विद्युत मीटर रीडिंग की गड़बड़ी को लेकर शहर में फोटो युक्त मीटर रीडिंग की व्यवस्था एक साल से चल रही है। बावजूद इसके विद्युत रीडिंग में गड़बड़ी नहीं रुकी। मीटर रीडिंग में गड़बड़ी के कारण गलत बिल आने पर उपभोक्ता को काफी परेशानी उठानी पड़ती है। स्थित यह है कि तीन-तीन महीने से लोग बिजली बिल सुधरवानें चक्कर काट रहे है। इसके बावजूद स्थित में कोई सुधार नहीं है। रोजना एकल खिड़की में 100 से अधिक शिकायतें आ रही है। इनमें बमुश्किल से सात दिन में पचास फीसदी शिकायत भी निराकृत नहीं हो पा रही है।

540 यूनिट अधिक लिख कर आ गया बिल-
नेहरु नगर निवासी उपभोक्ता राजकुमार गुप्ता बताते है कि अभी मीटर में कुल रीडिंग 27145 है। इसके बावजूद विद्युत बिल में 27658 यूनिट खपत बताते हुए 540 यूनिट का अधिक बिल भेज दिया गया है। पिछले माह भी इसी तरह की बिल में गड़बड़ी होने पर उन्होंने शिकायत एकल खिड़की केन्द्र में की थी, इसके बावजूद भी इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब फिर से शिकायत कर रहे है। ऐसे में नियमित बिल जमा नहीं होने पर अतिरिक्त सरचार्ज जहां जमा करना पड़ता है।

मीटर का डिस्प्ले बंद, फिर भी बिल में आ रही रीडिंग
शहर के अनंतनगर निवासी विक्र म सिंह बताते है अगस्त माह में मीटर का डिस्प्ले बंद है। इसकी शिकायत वे अगस्त में ऑन लाइन एवं ऑफ लाइन कर चुके है। एकल खिड़की में भी तीन बार शिकायत कर चुके है। इसके बावजूद डिस्प्ले नहीं बदला है। इन सबसे हैरान करने वाली बात यह है मीटर का डिस्प्ले खराब होने के बाद भी नियमित फोटो रीडिंग लेकर विद्युत कंपनी बिल जारी किया जा रहा है।

865 यूनिट गलत बिल सुधारने तीन महीने से काट रहे है चक्कर
इंदिरा गृह ज्योति योजना में रतहरा निवासी सुशीला देवी को 100 रुपए वर्तमान बिजली बिल आया है। लेकिन पिछला १४ हजार गलत बिल सुधारवाने के लिए वह भटक रही है। वहीं ऑन लाइन में बताया गया कि पूरा बिल एक साथ जमा होगा। उन्होंने बताया कि उनकी कुल मीटर में अभी 1009 रीडिंग है। इसके बावजूद 1865 यूनिट का बिल दिया गया। 865 यूनिट का बिल सुधारवाने वह तीन महीने से चक्कर काट रही है। इसके बावजूद बिल में कोई सुधार नहीं हुआ।

Lokmani shukla
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned