फर्जी नियुक्ति के पीडि़तों को लेकर विश्वविद्यालय के गेस्ट हाउस का जांच करने पहुंची पुलिस

- अभ्यर्थियों ने बताया पीछे की ओर से विश्वविद्यालय लाया गया था, रात्रि के नौ बजे हुआ था इंटरव्यू

By: Mrigendra Singh

Published: 07 Sep 2020, 09:19 AM IST


रीवा। अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय में फर्जी नियुक्तियों के मामले में पुलिस अब एक्शन में आ गई है। रविवार को पीडि़त अभ्यर्थियों के साथ पुलिस ने विश्वविद्यालय के गेस्ट हाउस का निरीक्षण किया। जहां पर यह जानकारी ली कि इंटरव्यू के दौरान कितने लोग शामिल थे और किस कमरे में उन्हें लाया गया था।

पीडि़त अभ्यर्थी अजीत सिंह ने पुलिस को इंटरव्यू के दिन का पूरा घटनाक्रम बताया। जिसमें कहा गया है कि राहुल सिंह पटेल के माध्यम से ही विश्वविद्यालय में लाइब्रेरियन, कम्प्यूटर आपरेटर और आफिस अटेंडेंट पदों के लिए कई लोगों ने आवेदन किया था। राहुल ने ही उन्हें इंटरव्यू के लिए काल-लेटर दिया था।

साथ ही वह ही 17 जनवरी 2019 की रात्रि अभ्यर्थियों को लेकर विश्वविद्यालय आया था। जहां पर स्वयं को विश्वविद्यालय का कर्मचारी बताने वाला विनोद तिवारी एवं कुछ अन्य लोग मौजूद थे। एक सख्श और मौजूद था जिसका परिचय कराया गया था कि यह अधिकारी बाहर से केवल इंटरव्यू के लिए आए हैं।

विश्वविद्यालय गेस्ट हाउस के कमरा नंबर तीन में इंटरव्यू होने की जानकारी अभ्यर्थियों को दी गई है। अभ्यर्थियों के साथ शहर के वार्ड 13 की पार्षद नम्रता सिंह एवं सामाजिक कार्यकर्ता संजय सिंह भी पहुंचे थे। इस मामले में निष्पक्ष जांच करते हुए गिरोह के प्रमुख लोगों पर कार्रवाई की मांग उठाई गई है।

- रुपए लेनदेन के दस्तावेज भी पुलिस ने लिए


फर्जी नियुक्तियों के पीडि़त अभ्यर्थियों से पुलिस ने दस्तावेज भी लिए हैं। जिसमें करीब १२ लाख रुपए देने की जानकारी पुलिस को दी गई है। इसी तरह से करीब १२७ की संख्या में अभ्यर्थी बताए जा रहे हैं, जिनसे अलग-अलग विश्वविद्यालयों में नियुक्ति के नाम पर रुपए लेने की बात कही जा रही है। राहुल सिंह पटेल के खाते में राशि ट्रांसफर करने के साथ ही लाखों रुपए नकदी दिए जाने की भी जानकारी पुलिस को दी गई है।

rewa
.. IMAGE CREDIT: patrika

- सिटी कोतवाली को सौंपा जाएगा मामला


विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा दी गई सूचना के आधार पर विश्वविद्यालय थाने में पीडि़त युवक अजीत सिंह एवं अन्य से पूछताछ की गई है। पुलिस अब इस मामले को सिटी कोतवाली थाने को जांच के लिए सौंपेगी। रुपयों का लेनदेन एवं दोनों पक्षों के बीच वार्ता का दौर सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र में ही हुआ है। साथ ही इसके पहले कोतवाली थाने में अभ्यर्थियों की ओर से शिकायत भी दर्ज कराई जा चुकी है। इसलिए विश्वविद्यालय प्रशासन की सूचना पर पुलिस ने परिसर के उस स्थान का भी मुआयना किया है जहां पर इंटरव्यू कराए जाने की सूचना दी गई है। पीडि़त पक्ष का बयान और कुछ दस्तावेजों के साथ ही विश्वविद्यालय थाने से फाइल सिटी कोतवाली थाने को भेजी जाएगी। बताया जा रहा है कि सोमवार को यह मामला कोतवाली पुलिस के पास पहुंच जाएगा। जहां से नए सिरे से जांच प्रारंभ की जाएगी।

- राहुल से ही खुलेंगे गिरोह के तार


विश्वविद्यालयों में नियुक्तियां देने के नाम पर करोड़ों रुपए के लेनदेन का मामला सामने आया है। जिसमें पीडि़तों ने राहुल सिंह पटेल नाम के युवक का नाम लिया है। साथ ही विश्वविद्यालय के कर्मचारी की भी संलिप्तता सामने आई है। रुपयों का लेनदेन राहुल के साथ ही हुआ था। इसलिए पुलिस भी अब राहुल से पूछताछ करेगी, माना जा रहा है कि उसके पकड़े जाने के बाद ही वस्तु स्थिति का खुलासा होगा कि कितने और लोग इस गोरखधंधे में शामिल रहे हैं।

- -----
---------
विश्वविद्यालय प्रशासन ने 'पत्रिकाÓ में प्रकाशित खबर के आधार पर जांच के लिए पत्र दिया था। जिसमें पीडि़त पक्ष का बयान दर्ज किया गया है। साथ ही विश्वविद्यालय परिसर के जिस स्थान पर इंटरव्यू कराए जाने का दावा किया गया है, उस स्थल का भी मुआयना किया है। लेनदेन से जुड़ा पूरा मामला सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र का है। पहले भी वहां शिकायत की जा चुकी है। इसलिए जांच के लिए उन्हीं को मामला सौंपेंगे।
शिवपूजन सिंह बिसेन, थाना प्रभारी विश्वविद्यालय
---------------

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned