भारत बंद: धारा-144 बेअसर, अनकंट्रोल आंदोलनकारी, तमाशबीन बने रहे कलेक्टर-पुलिस अधीक्षक

भारत बंद: धारा-144 बेअसर, अनकंट्रोल आंदोलनकारी, तमाशबीन बने रहे कलेक्टर-पुलिस अधीक्षक

Rajesh Patel | Publish: Sep, 06 2018 09:43:43 PM (IST) Rewa, Madhya Pradesh, India

जिले में एससी-एसटी एक्ट में संशोधन से नाराज सवर्ण प्रदर्शनकारियों पर धारा-144 बेअसर रही, जगह-जगह एकत्रित हुई भीड़, कंट्रोलरूम पर पहुंचे प्रदर्शनकारी, नोकझोंक

 

रीवा. जिले में एससी-एसटी एक्ट में संशोधन से नाराज सवर्ण प्रदर्शनकारियों पर धारा-144 बेअसर रही। आंदोलनकारियों के सामने प्रशासन तमाशबीन बना रहा। शहर में प्रदर्शनकारियों की भीड़ रोकने में प्रशासन नाकाम रहा। जिसका खामियाजा रहा कि आखिरी समय के साढ़े तीन बजे रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शनकारियों की भीड़ जमा हो गई। ट्रेन रोकने का पुलिस ने विरोध किया तो आंदोलनकारियों ने पुलिस पर पत्थर फेंके और अपर कलेक्टर की गाड़ी के शीशे तोड़ दिए। उग्र प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए पुलिस को गैस के गोले तक छोडऩा पड़ा।

जिला प्रशासन ने एक दिन पहले ही धारा-144 लागू
एक्ट्रोसिटी एक्ट के विरोध को लेकर जिला प्रशासन ने एक दिन पहले ही जिले में धारा-144 लागू कर दी गई थी। जिला दंडाधिकारी प्रीति मैथिल ने चेतावनी दी कि बिना अनुमति जुलूस, रैली, सभा और जबरिया दुकानें बंद करने की चेष्टा की गई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। लेकिन, भारत बंद के समर्थन में सर्वण समाज के विभिन्न संगठन एकत्रित हो गए। शहर में सुबह से ही जगह-जगह भीड़ जमा रही।

उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल व सांसद जर्नादन मिश्र के आवास पर भी प्रदर्शन

सिरमौर चौराहा, कालेज चौराहा सहित शहर में जगह-जगह सवर्ण समाज के साथ जुलूस में सपाक्स के कर्मचारी भी शामिल रहे। सिरमौर चौराहे पर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के सामने भीड़ जुलूस, रैली में एक्ट के विरोध में नारे लगाती रही। आंदोलनकारी कंट्रोलरूम से लेकर कलेक्ट्रेट के सामने सडक़ पर प्रदर्शन किया। यहां तक कि उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल व सांसद जर्नादन मिश्र के आवास पर भी प्रदर्शन किया गया। अफसरों की अनदेखी के चलते भीड़ बेकाबू हो गई थी, जिससे रेलवे स्टेशन पर पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। बवाल की सूचना पर मौके पर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक सुशांत सक्सेना भारी पुलिस बल के साथ पहुंचे। प्रदर्शनकारियों ने अफसरों के वाहनों पर पत्थर फेके। जिला प्रशासन ने आठ कार्यपालिक दंडाधिकारियों को लगाया था। इसके बाद भी धारा-144 का खुलेआम उलंघन किया गया।

जबरिया बंद करायी दुकानें, वाहन से उतारी सवारियां
सवर्ण सेना के लोगों ने एससी-एक्ट के विरोध में शहर में जुलूस निकाला। इस दौरन कई जगहों पर टैक्टी से सवारियों को उतारा। अस्पताल रोड पर जननी एक्सप्रेस भी भीड़ से बचकर जैसे-तैसे निकल गई। इसी तरह जिले में कई जगहों पर साइकिल, मोटर साइकिल और सवारी वाहनों का हवा निकाल दिया गया। जिससे यात्रियों को भारी फजीहत झेलनी पड़ी।

पुलिस महानिरीक्षक के साथ कलेक्टर-एसपी ने किया भ्रमण
रीवा. भारत बंद के दौरान पुलिस महानिरीक्षक उमेश जोगा, कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक, पुलिस अधीक्षक सुशांत सक्सेना, अपर कलेक्टर बीके पाण्डेय सहित प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों ने शहर का भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। बंद के दौरान रेलवे स्टेशन रीवा में कुछ असमाजिक तत्वों ने शांति व्यवस्था भंग करने की कोशिश की जिस पर पुलिस ने बल उपयोग किया।

न्यायालय परिसर के आस-पास खुली रहीं दुकानें
भारत बंद के दौरन न्यायालय के आस-पास दुकानें खुली रहीं। इसके अलावा रतहरा और उपरहटी बाजार में बंद असर नहीं रहा। रतहरा की ओर कुछ दुकानें बंद रहीं, ज्यादातर खुली रहीं। इसी तरह उपरहटी मोहल्ले और न्यायायलय परिसर के आस-पास दुकानें खुली रहीं।

वर्जन...
जिले में भारत बंद शांतिपूर्ण रहा। पूरे दिन कंट्रोल की स्थिति रही। आखिरी समय कुछ लोगों ने छिटपुट विवाद रहा। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर काबू में कर लिया।
प्रीति मैथिल, कलेक्टर

 

Ad Block is Banned