शिक्षा का स्तर सुधारने प्रशासन ने झोकी ताकत परिणाम, हाईस्कूल सुमेदा में तिमाही परीक्षा में 33 छात्रों में सभी फेल

हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी का परीक्षा परिणाम सुधारने प्रशासन ने ताकत झोक दी है। सरकारी स्कूल के शिक्षा तंत्र को निजी स्कूलों की तरह दौडय़ा गया। बावजूद इसके परीक्षा परिणाम उल्ट साबित हुए है। रीवा विकास खंड के 21 हाईस्कूलों के तिमाही परीक्षा परिणाम यही बताते है। हाईस्कूल सुमेदा में शिक्षकों व संसाधन के बावजूद 10वीं के 33 छात्रों में एक भी छात्र परीक्षा में उत्र्तीण नहीं हुआ।

रीवा। हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी का परीक्षा परिणाम सुधारने प्रशासन ने ताकत झोक दी है। सरकारी स्कूल के शिक्षा तंत्र को निजी स्कूलों की तरह दौडय़ा गया। बावजूद इसके परीक्षा परिणाम उल्ट साबित हुए है। रीवा विकास खंड के 21 हाईस्कूलों के तिमाही परीक्षा परिणाम यही बताते है। हाईस्कूल सुमेदा में शिक्षकों व संसाधन के बावजूद 10वीं के 33 छात्रों में एक भी छात्र परीक्षा में उत्र्तीण नहीं हुआ। शुक्रवार को समीक्षा बैठक में इसे लेकर प्राचार्य को जमकर फटकार लगाई गर्ई। वहीं दो हाईस्कूल के प्राचार्य ने अच्छा बताने परिणाम गलत फीड करा दिए।

हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी में तिमाही परीक्षा परिणाम की समीक्षा हुई है। इसमें पाया कि हाईस्कूल सुमेदा में 33 छात्र अनुत्र्तीण है। वहीं तमरा हाईस्कूल में महज 6 फीसदी बच्चे तिमाही परीक्षा में पास हुए है। इस संबंध में जब प्राचार्य से कारण पूछा तो वह बेउत्तर रहे। वहीं हाईस्कूल अमिरती एवं हाईस्कूल चुआं परिहारिन टोला को परीक्षा परिणाम को देखकर समीक्षा कर रहे डीपीसी व सहायक संचालक हैरान रह गए। लेकिन जब गहन जांच की गई तो पता चला है कि परिणाम ही गलत फीड है। इनमें अमरिती ने 99.1 प्रतिशत व चुआं परिहारन टोल स्कूल ने 84 प्रतिशत परीक्षा परिणाम बताया है। लेकिन छात्रों की संख्या के आधार गलत फीडिंग पकड़ी गई है। बैठक के दौरान छात्रवृत्ति, मिड लाइन टेस्ट एवं सुपर 151 और निदान के अंतर्गत अतिरिक्त कक्षाओं पर चर्चा की गई। इसके अतिरिक्त ओजस क्लब गठित करने का निर्देश दिया है। वहीं जिन विद्यालयों के परीक्षा परिणाम कमजोर है उन्हें अतिरिक्त कक्षाएं लगाकर छमाही का बेहतर परीक्षा परिणाम लाने का निर्देश दिया है। बैठक में रीवा विकासखंड की नोडल भारती श्रीवास्तव, सहायक संचालक केपी तिवारी, डीपीसी सुधीर बांडा, सहित सभी 21 हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी के प्राचार्य उपस्थित रहे।

गलत फीड कराई छात्रों की संख्या व परीक्षा परिणाम
हाई स्कूल चुआं परिहान टोला में 71 बच्चों का 10वीं का परीक्षा परिणाम फीड कर दिया गया। साथ ही 84 प्रतिशत परीक्षा परिणाम बताया गया। लेकिन इसकी गहन समीक्षा में पता चला कि इस विद्यालय में महज 43 छात्र ही दर्ज है। इसी तरह अमिरिती हाईस्कूल में 99.1 प्रतिशत परिणाम फीड किया गया। लेकिन समीक्षा में 40 फीसदी से भी कम परीक्षा परिणाम मिला।

शिक्षक बोले नहीं आते छात्र
इस दौरान हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी स्कूल के प्राचार्यों ने कहा कि छात्र नियमित कक्षाओं में नहीं आते है। यही कारण है कि तिमाही का परीक्षा परिणाम कम रहा है। वहीं स्थानांतरण के कारण भी पढ़ाई प्रभावित हुई। इस पर अतिरिक्त कक्षाएं लगाकर इन विद्यालयों का परीक्षा परिणाम छमाही तक सुधारने निर्देश दिया है।

Lokmani shukla
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned