रीवा. अयोध्या मामले के फैसले के मद्देनजर रीवा शहर सहित पूरे जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं। कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव और पुलिस अधीक्षक आबिद खान ने शहर व कस्बों में भ्रमण कर किसी भी अप्रत्याशित घटना से निपटने के लिए पूरी तरह चौकस रहे। कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने अधिकारियों के साथ भ्रमण कर व्यवस्थाओं पर नजर रखी। रीवा शहर में सीसीटीवी कैमरे के माध्यम से पल-पल की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था में पुलिस कर्मी, पुलिस के वाहन, मोबाइल पार्टियां लगातार भ्रमण करती रहीं। कलेक्टर ने नगरीय निकाय में फायर ब्रिगेड को दुरूस्त रखने तथा सभी अस्पतालों में डाक्टर्स की उपस्थिति व एम्बुलेंस की व्यवस्था रखने के निर्देश दिए। सभी पेट्रोल पंपो पर निगरानी रखी जा रही है कि कहीं भी अतिरिक्त पेट्रोल की बिक्री तो नहीं हो रही है तथा केन व बाटल में पेट्रोल ले जाना प्रतिबंधित किया गया है।

अयोध्या प्रकरण का फैसला आने के बाद जिले में पूरे दिन अमन चैन कायम रहा। सुरक्षा के मद्दे नजर कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ फ्लैग मार्च किया और शहर में भ्रमण कर जायता लेते रहे। शनिवार को सुबह से ही सड़कों पर सन्नाटा रहा। बाजार में खरीदारी भी अन्य दिनों की अपेक्षा धीमी रही। कलेक्टर ने देरशाम मुस्लिम और सिंख, सरदार और सिंधी समुदाय के लोगों ने कंट्रोलरूम में मंथन किया। देरशाम शासन स्तर पर १० नवंबर को मुस्लिम और सिख समुदाय के त्योहार के दौरान निकलने वाले जुलूस की अनुमति को निरस्त कर दी गई। त्योहार के मद्दे नजर कलेक्टर-एसपी पुलिस कंट्रोलरूम में मुस्लिम और सिख, सिंधी व सरदार समुदाय के सदस्यों के साथ बैठक की। कलेक्टर ने बताया कि दोनों समुदायों के स्वेच्छा पर शासन ने अनुमति निरस्त कर दिया है। बैठक के दौरान प्रहलाद सिंह, नरेश काली,दिलीप ठारवानी, चंदी केशवानी, पप्पू मंजानी, बंटू सरदार, शहीद अंसारी, मुनाफ खान सहित अधिकारी कर्मचारी व अन्य सदस्य मौजूद रहे। उधर, संभागायुक्त डॉ अशोक कुमार भार्गव और डीआइजी कंट्रोल रूम से संभाग स्तर पर नजर बनाए हुए थे। सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज ने स्वागत किया है। साथ ही देश भर के लोगों से शांति एवं सौहार्द बनाए रखने का आग्रह किया है। अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज युवा मोर्चा के प्रदेश संयोजक अंशुल मिश्रा ने कहा कि, सर्वोच्च न्यायालय का यह ऐतिहासिक निर्णय मील का पत्थर साबित होगा। बताया कि, अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के राम हर्षण मंदिर में हवन किया गया।

[MORE_ADVERTISE1][MORE_ADVERTISE2]

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned