रीवा. शहर के लक्ष्मणबाग में स्थित बापू भवन दुर्दशा का शिकार हो गया है। इसे संरक्षित करने के दावे पहले किए गए थे लेकिन इनदिनों यहां पर सुरक्षाकर्मियों का डेरा है। इस पर कुछ स्थानीय लोगों ने आपत्तियां भी उठाई हैं लेकिन व्यवस्था बनाने की ओर प्रशासन का ध्यान नहीं गया है। बताया गया है कि सन् १९७० में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की भस्मि का कलश रीवा लाया गया था। इसे लक्ष्मणबाग में रखा गया है। तब से उक्त स्थान को बापू भवन के रूप में जाना जाता है। यहां पर महात्मा गांधी की जयंती एवं पुण्यतिथि के अवसर पर कार्यक्रमों का आयोजन भी होता है। बीते कुछ समय से लक्ष्मणबाग संस्थान के प्रशासक कलेक्टर हैं, कुछ अवसरों को छोड़कर अब तक प्रशासन की ओर से इस संस्थान को व्यवस्थित रखने के कोई प्रयास नहीं किए गए हैं।

बापू भवन को संरक्षित करने की दिशा में दावे तो कई बार किए गए लेकिन प्रयास हुए नहीं।लक्ष्मणबाग परिसर में ७ अक्टूबर २०१७ को गांधी स्मृति संग्रहालय का भूमि पूजन किया गया था।दावा किया गया था कि बापू भवन को संग्रहालय के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां पर बापू से जुड़े साहित्य एवं अन्य जानकारियां रहेंगी,शिलापट्टिका अब भी परिसर में लगी है लेकिन संग्रहालय के नाम पर किया गया कार्य नजर नहीं आ रहा है।जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष वसीम राजा ने प्रतिनिधि मंडल के साथ मुलाकात कर इसे संरक्षित करने की मांग उठाई। सारी व्यवस्थाओं को दुरस्थ करने के लिए कलेक्टर से कहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned