रीवा. शहर में बीते दो दिनों से चल रही बारिश के चलते कई हिस्सों में जल भराव हुआ है। शहर से गुजरी बीहर नदी का पानी भी उफान पर पहुंचने लगा है। निपनिया में नदी के पुल के ऊपर पानी पहुंच गया तो कई स्थानों पर घरों के भीतर पानी पहुंच गया है। शहर के नजदीक करहिया और मैदानी में तो घरों में पानी पहुंचने से लोगों ने हंगामा मचा दिया। सडक़ पर पूरे मोहल्ले के लोग जमा हो गए और वाहनों की आवाजाही रोक दी। बढ़ते हंगामे की सूचना मिलने पर कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने प्रभावित परिवारों के लिए भोजन की व्यवस्था के साथ ही राहत शिविर में रुकने के इंतजाम कराए और तहसीलदार को बुलाकर पानी की निकासी कराने के निर्देश दिए। स्थानीय लोगों ने बताया कि वर्षों से यहां पर वह रह रहे हैं, नाले से बारिश का पानी निकलता था तो उस पर मिट्टी डालकर कब्जा कुछ लोगों ने कर लिया। जिससे पानी निकलने के लिए जगह नहीं बची है। इसी वजह से पानी अपना रास्ता ढूढ़ते हुए घरों के भीतर तक पहुंच गया।

कलेक्टर ने कहा कि नाले को खोदकर पानी निकासी की व्यवस्था बनाई जाए। इसी तरह करहिया के लोग भी नाला पाटे जाने की वजह से परेशान थे, उनके यहां का पानी भी नहीं निकल रहा था। करीब दो घंटे तक हंगामे के बाद जब जेसीबी पहुंची तब पानी निकासी का इंतजाम किया गया। शहर के भीतर कई हिस्सों में एक दिन पहले ही रात्रि से जलभराव शुरू हो गया था। निचली बस्तियों में पानी का सबसे अधिक असर देखा गया है। बारिश तेज होने की वजह से नालियों के ऊपर से पानी घंटों बहता रहा। शहर के मध्य से गुजरने वाली बीहर नदी का निपनिया पुल सुबह करीब दस बजे डूब गया। लोगों की आवाजाही जारी थी, पुलिस को सूचना मिली तो दोनों किनारों में बेरिकेटिंग कर आवागमन रोक दिया गया ।दो दिन के भीतर जिले भर में तेज बारिश हुई है। शहर के कुछ स्थानों में पानी रुका था, मैदानी में लोगों ने सडक़ पर विरोध प्रदर्शन किया, मौके पर जाकर व्यवस्था बनाई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned