रीवा. शहर में नवरात्रि प्रांरभ हो गई है, बावजूद देवी मंदिरों में सन्नाटा पसरा हुआ है। लॉक डाउन के कारण भक्तों को मंदिर में जाने पर रोक है। वहीं कोरोना वायरस को लेकर भक्तगण भी मंदिरों से दूरी बना रखे है। वहीं नवरात्रि में लोग अपने घरों में देवी अराधना में डूब हुए है। इस दौरान लोगों ने घरों में देवी की पूजा-अर्चना कर व्रत रखा। इसके साथ विशेष पूजा अर्चना की।

चैत्र नवरात्र में शहर के रानी तालाब स्थित काली मंदिर एवं फूलमती माता मंदिर में बड़ी संख्या में सुबह लोग देवी का स्नान एवं दर्शन के लिए जाते है। इस दौरान यहां भारी मेला और भंडारे सहित अन्य धार्मिक अनुष्ठान होते है। लेकिन कोरोना वायरस के चलते मंदिरों के पट भक्तों के लिए बंद है। यहां सिर्फ पुजारियों को पूजा करने की अनुमति दी गई है। इस दौरान भक्तों को प्रवेश नहीं मिलेगा। इसके पीछे प्रशासन की मंशा है कि इन धार्मिक स्थल में भीड़ एकत्र होने से कोरोना संक्रमित बीमारी फैलाने का खतरा ज्यादा है। इसी को देखते हुए प्रशासन ने मंदिरों को बंद करा दिया है। स्थानीय लोग बताते है इस प्राचीन मंदिर में यह पहला मौका है जब लोगों को दर्शन के लिए प्रवेश नहीं मिल रहा है और बाहर सन्नाटा पसरा हुआ है। हालाकि इस संक्रमित बीमारी से फैलने को रोकने के लिए प्रशासन के उठाए गए इस कदम में लोग सहयोग दे रहे है।

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned