अध्यापकों के संविलियन में रोड़ा बनी संकुल प्राचार्यों की लापरवाही

अध्यापकों के संविलियन में रोड़ा बनी संकुल प्राचार्यों की लापरवाही

Ajeet shukla | Publish: Sep, 09 2018 01:00:38 PM (IST) Rewa, Madhya Pradesh, India

डेडलाइन खत्म...

रीवा। अध्यापकों के राज्य शिक्षा सेवा में संविलियन की राह में संकुल प्राचार्यों की लापरवाही रोड़ा बन गई है। प्राचार्यों की उदासीनता के चलते अध्यापकों के दस्तावेजों की सत्यापन प्रक्रिया अधर में लटक गई है। निर्धारित अंतिम तिथि बीत जाने के बावजूद प्राचार्यों ने जिला शिक्षा अधिकारी स्तर पर सत्यापित होने के लिए दस्तावेज ही उपलब्ध नहीं कराए हैं।

केवल 46 संकुल प्राचार्यों ने जमा किया दस्तावेज
अध्यापकों के संविलियन प्रक्रिया में प्राचार्यों की लापरवाही का अंदाजा महज इस बात से लगाया जा सकता है कि अभी तक 108 में से केवल 46 संकुल प्राचार्यों ने अध्यापकों के दस्तावेज जमा किए हैं। जबकि डीइओ कार्यालय में दस्तावेज जमा करने की शासन स्तर से अंतिम तिथि सात सितंबर निर्धारित की गई है।

लापरवाह प्राचार्यों पर कार्रवाई की तैयारी शुरू
फिलहाल जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की ओर से संकुल प्राचार्यों को एक दिन का मौका दिया गया है। जारी निर्देशों के अनुरूप संकुल प्राचार्यों को रविवार, 9 सितंबर को पीके स्कूल में दस्तावेज जमा करना होगा। नौ सितंबर को दस्तावेज जमा नहीं करने वालों प्राचार्यों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। यह निर्देश शासन स्तर से जारी आदेश के मद्देनजर जारी किया गया है।

नजदीकी संकुल प्राचार्यों की भारी लापरवाही
डीइओ कार्यालय में दस्तावेज जमा करने में सबसे अधिक लापरवाही उन संकुल प्राचार्यों ने दिखाई है, जो जिला मुख्यालय से नजदीक हैं। रीवा, रायपुर कर्चुलियान व जवा के छह-छह, सिरमौर व गंगेव के सात-सात, नईगढ़ी के पांच, मऊगंज के चार, हनुमना के दो व त्योंथर के तीन संकुल प्राचार्यों ने दस्तावेज जमा नहीं किया है। इन सभी के लिए नोटिस जारी की गई है।

अध्यापकों ने जमा कर दिया है दस्तावेज
संकुल प्राचार्यों की लापरवाही उस स्थिति में है, जबकि ज्यादातर अध्यापकों ने निर्धारित कार्यवाही के तहत अपने दस्तावेज ऑनलाइन करने के बाद उसकी हॉर्ड कॉपी संकुल प्राचार्यों को उपलब्ध करा दी है। संकुल प्राचार्यों को दस्तावेज सत्यापित कर डीइओ की समिति की ओर से सत्यापन के बावत दस्तावेज भेजना है, लेकिन लापरवाही बरती जा रही है।

Ad Block is Banned