फर्जी अंकसूची लगाकर नौकरी हथियाने वाले सूबेदार स्टेनो सेवा से पृथक

विभागीय जांच सिद्ध होने पर एसपी ने की कार्रवाई

By: Shivshankar pandey

Published: 02 Jun 2020, 09:08 PM IST

रीवा। फर्जी अंकसूची लगाकर नौकरी हथियाने वाले सूबेदार स्टेनो को विभागीय जांच प्रमाणित होने पर एसपी ने सेवा से पृथक कर दिया है। उक्त कार्रवाई से विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में पदस्थ सूबेदार स्टेनो मो. गुलाम अंसारी ने फर्जी अंकसूची के जरिये सूबेदार स्टेनो की नौकरी हथियाई थी।

हिन्दी शार्ट हैण्ड परीक्षा की लगाई थी फर्जी अंकसूची
उन्होंने हिन्दी शार्ट हैण्ड परीक्षा पास करने की अंकसूची फर्जी लगाई थी जिसकी विभागीय जांच वर्ष 2017 में पुलिस अधीक्षक कार्यालय को प्राप्त हुई थी। 25 जुलाई 2017 को विभागीय जांच नगर पुलिस अधीक्षक को सौंपी गई थी जिसकी जांच 18 दिसम्बर 2019 को पूरी हुई। एसटीएम भोपाल द्वारा उत्तरपुस्तिका का मिलान कराया गया था जिसमें आऊट लाइन अन्य कांपियों से मिलती जुलती थी जो ऋषि प्रणाली में थी। डिक्टेशन परीक्षार्थी ने नहीं लिखा था बल्कि उनके स्थान पर किसी दूसरे व्यक्ति ने बैठकर परीक्षा दी थी।

बचाव में नहीं दिया जवाब
23 दिसम्बर 2019 को आरोपी स्टेनो को पत्र जारी कर उनसे बचाव में जवाब मांगा गया लेकिन निर्धारित तिथि एक सप्ताह के भीतर उन्होंंने जवाब प्रस्तुत नहीं किया। इसके बाद उनको 9 जनवरी व 3 मार्च 2020 को पत्र जारी कर जवाब मांगा गया लेकिन उन्होंने इसकी अनदेखी की। उक्त आरोपी मो. ुगुलाम अंसारी को सेवा से पृथक कर दिया गया है। सेवा अवधि में उक्त स्टेनो को 6 इनाम व 2 सजाएं दी गई थी। तीन सालों तक लगातार उनको ग श्रेणी दी गई थी।

एसटीएफ भोपाल ने दर्ज किया था मामला
सूबेदार स्टेनो ने शार्ट हैण्ड की फर्जी अंकसूची लगाकर नौकरी हथियाई थी जिसमें उनके खिलाफ एसटीएफ भोपाल ने मामला दर्ज किया था। विभागीय जांच रीवा को प्राप्त हुई थी जो प्रमाणित हुई। आरोपी को जवाब प्रस्तुत करने के लिए नोटिस जारी की गई लेकिन उन्होंने जवाब प्रस्तुत नहीं किया। फलस्वरूप उन्हें सेवा से पृथक कर दिया गया है।
आबिद खान, एसपी रीवा

Show More
Shivshankar pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned