सीएम ने कहा इस तस्वीर को जीवन भर नहीं भूल पाएंगे, इस मां का कर्ज है हम पर


शहीद के परिजनों को सरकारी नौकरी और एक करोड़ की श्रद्धानिधि देगी सरकार
- शहीद धीरेन्द्र को श्रद्धांजलि देने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

By: Mrigendra Singh

Published: 08 Oct 2020, 11:58 AM IST

---
रीवा। सतना जिले के पडिय़ा गांव में बीते तीन दिन के मातम के बाद सीआरपीएफ के शहीद जवान धीरेन्द्र त्रिपाठी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शहीद को श्रद्धांजलि देने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित कई जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में क्षेत्र के लोग पहुंचे। मुख्यमंत्री ने परिवार को आश्वस्त किया है कि शहीद के सम्मान के साथ ही आगे के जीवन यापन से जुड़ी व्यवस्थाएं सरकार करेगी।

इस दौरान यह घोषणा करते हुए सीएम ने कहा कि परिवार को सरकार की ओर से एक करोड़ रुपए की श्रद्धानिधि दी जाएगी और एक सदस्य को सरकारी नौकरी मिलेगी। शहीद की स्मृति सदैव बनी रहे इसके हर संभव प्रयास किए जाएंगे। परिजनों से चर्चा करके गांव में शहीद की प्रतिमा लगाई जाएगी, साथ ही संस्थान का नामकरण भी उनकी स्मृति में किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि धीरेन्द्र को तो हम वापस नहीं ला सकते लेकिन अब उनका परिवार मध्यप्रदेश का परिवार है।

शहीद के पिता और परिवार के अन्य लोगों से भी मुख्यमंत्री ने चर्चा की और शोक की इस घड़ी में उनका ढाढ़स बंधाया। इस दौरान चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, राज्यमंत्री रामखेलावन पटेल, सांसद जनार्दन मिश्रा, विधायक राजेन्द्र शुक्ला रीवा, जुगुल किशोर बागरी रैगांव, श्यामलाल द्विवेदी त्योंथर, केपी त्रिपाठी सेमरिया, संभागायुक्त राजेश जैन, आइजी उमेश जोगा, भाजपा जिला अध्यक्ष अजय सिंह, जमुना प्रसाद शुक्ला, भास्कर पाण्डेय, श्रीकांत त्रिपाठी सहित क्षेत्र के जनप्रतिनिधि एवं स्थानीय लोग बड़ी संख्या में मौजूद रहे। इस दौरान सतना और रीवा के प्रशासनिक एवं पुलिस के कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद रहे।

- मां ने कहा जिन्होंने बेटे को मारा उनसे बदला जरूर लेना
परिवार के सदस्यों ने मुख्यमंत्री के सामने धीरेन्द्र की शहादत का बदला लेने की मांग उठाई। शहीद की मां ने मुख्यमंत्री से लिपटकर अपना दु:ख जाहिर किया। उन्होंने कहा कि एक ही बेटा था, इस घटना से उनका सबकुछ लुट गया। इसलिए जिन्होंने बेटे को मारा है, उनसे सरकार बदला जरूर ले। आतंकवाद समाप्त होना चाहिए, ऐसा दु:ख अब किसी और परिवार के सामने नहीं आए। सीएम ने आश्वासन दिया कि सीमा पर जवान आतंकवाद का खात्मा करने के लिए लगे हुए हैं। उनका बेटा भी जांबाज सिपाही था।


सीएम ने कहा हम पर इस मां का कर्ज है
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहीद धीरेन्द्र की मां को सांत्वना देते हुए एक फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट की। जिसमें लिखा कि 'मेरे देशवासियों!
हम पर इस मां का कर्ज है। मैं इस तस्वीर को हमेशा साथ रखूंगा, क्योंकि ये मुझे याद दिलाएगी कि राष्ट्र सर्वोपरि है, राष्ट्र मुझसे कहीं ऊपर है और यह भावना मुझे जीवन का एक-एक पल राष्ट्र को समर्पित करने की प्रेरणा देती रहेगी। शहीद जवान धीरेंद्र त्रिपाठी अमर रहें।Ó

- पांच अक्टूबर को शहीद हुए थे धीरेन्द्र
पडिय़ा गांव के निवासी धीरेन्द्र त्रिपाठी सीआरपीएफ के ११० बटालियन लेथपुरा में पदस्थ थे। जम्मू-कश्मीर के पंपोर क्षेत्र में आतंकवादियों ने इनकी टुकड़ी पर बीते पांच अक्टूबर की सायं हमला कर दिया था। जिसमें पांच जवानों को गंभीर चोटें आई थी। धीरेन्द्र त्रिपाठी और शैलेन्द्र सिंह नाम के दो जवान शहीद हो गए थे। तीन का अब भी उपचार किया जा रहा है।

-
सीआरपीएफ के 45 जवानों की टीम लेकर आई
शहीद का पार्थिव शरीर उनके गृहग्राम पडिय़ा सुबह के करीब साढ़े सात बजे पहुंच गया। सीआरपीएफ टीम का नेतृत्व कर रहे असिस्टेंट कमांडेंट अभ्युदय सिंह ने बताया कि एक दिन पहले ही लखनऊ से पार्थिव शरीर को लेकर सड़क मार्ग से शहीद के गृहग्राम के लिए रवाना हुए थे। 45 जवानों के साथ पूरे सम्मान के साथ परिजनों को पार्थिव शरीर सौंपा गया है।
-
राजकीय सम्मान के साथ दी अंतिम विदाई
शहीद के अंतिम दर्शन के लिए गांव में बड़ी संख्या में लोग पहुंचे। मुख्यमंत्री सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारियों ने पुष्पचक्र अर्पित किया। सीआरपीएफ की टीम ने सलामी शस्त्र और शोक शस्त्र के साथ हवा में फायर कर जांबाज शहीद को अंतिम विदाई दी।
--------------

rewa
Mrigendra Singh IMAGE CREDIT: patrika


पिता भी सीआरपीएफ में दे रहे सेवा
शहीद धीरेन्द्र के पिता रामकलेश त्रिपाठी भी सीआरपीएफ में सेवाएं दे रहे हैं। वर्तमान में बालाघाट में उनकी पदस्थापना है। घटना की सूचना मिलने पर पांच अक्टूबर को ही देर रात वह गांव पहुंच गए थे। धीरेन्द्र इकलौते बेटे थे, एक बहन भी है। शहीद की पत्नी साधना त्रिपाठी घर पर ही रहती हैं। इनका तीन वर्ष का बेटा कान्हा भी है।
-
दस वर्ष पहले हुए थे भर्ती
सीआरपीएफ में धीरेन्द्र दस वर्ष पहले भर्ती हुए थे। उनके रिश्तेदार तमरा निवासी जमुना प्रसाद शुक्ला बताते हैं कि 31 वर्षीय धीरेन्द्र दस साल पहले भर्ती हुए थे, आगामी 10 अक्टूबर से उनकी सेवा के दस वर्ष पूरे जाएंगे। बचपन से ही उनमें सेना में जाने की इच्छा थी। वह अक्सर कहा करते थे कि देश की सेवा के लिए सेना की वर्दी पहनना चाहते हैं। परिवार के लिए यह शहादत काफी दु:खदाई है।
-
चचेरे भाई ने दी मुखाग्रि
शहीद धीरेन्द्र अपने पिता के इकलौते पुत्र थे। सामान्यतौर पर पिता अपने बेटे को मुखाग्रि नहीं देते। शहीद का बेटा भी अभी तीन वर्ष का है। इसलिए परिवार के लोगों ने तय किया कि धीरेन्द्र के चचेरे भाई शिवशंकर त्रिपाठी मुखाग्रि देंगे। इस घटना से शिवशंकर भी आहत हैं उनका कहना है कि कभी सोचा नहीं था कि इस तरह की क्रिया में वह शामिल होंगे। इस घटना ने पूरे परिवार को झकझोर दिया है।
--

rewa
Mrigendra Singh Rewa IMAGE CREDIT: patrika
Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned