स्वच्छ भारत मिशन को मुंह चिढ़ा रहे ऐसे शौचालय

स्वच्छ भारत मिशन को मुंह चिढ़ा रहे ऐसे शौचालय
Such toilets are teasing the Clean India Mission

Bajrangi Rathore | Updated: 13 Oct 2019, 01:01:05 AM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

स्वच्छ भारत मिशन को मुंह चिढ़ा रहे ऐसे शौचालय

रीवा। मप्र के रीवा जिले में एक ओर जहांं केन्द्र सरकार से लेकर प्रदेश सरकार दारा स्वच्छ भारत मिशन के नाम पर करोड़ों रुपये पानी की तरह बहाया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर प्रशासन में बैठे जिम्मेदार अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा इस अभियान को पलीता लगाया जा रहा है।

इसकी हकीकत आपको रीवा जिला मुख्यालय से 65 किलोमीटर दूर स्थित नगर परिषद नईगढ़ी म़ें देखने को मिल जायेगी। नगर प्रशासन द्वारा भले ही 1154 शौचालय बनाकर शासन द्वारा पुरस्कार प्राप्त लिया गया हो, लेकिन मैदानी हकीकत कुछ और ही है।

यहां बस्तियों में तो स्वच्छता अभियान की किरण पहुंची ही नहीं वहीं जो शौचालयों का निर्माण किए गए वे आधे-अधूरे हैं। कागज में लाखों रुपए खर्च कर दिए गए लेकिन उपयोग लायक शौचालय नहीं बनाए जा सके। नगर परिषद नईगढ़ी के वार्ड-15 हरिजन एवं आदिवासी बस्ती की तस्वीर कुछ यही बयां कर रही हैं।

हरिजन एवं आदिवासी बस्ती निवासी तुलसीदास साकेत, सोभनाथ साकेत, रामप्रसाद आदिवासी, बबलू आदिवासी, राजेश आदिवासी, ददन आदिवासी, बैजनाथ आदिवासी, लालू आदिवासी, रामधनी, केदार, केमला सहित दो दर्जन से अधिक परिवारों के शौचालय नहीं बने हैं। केवल गड्ढे खोदकर छोड़ दिए गए हैं।

अधूरे बने हैं शौचालय

बस्ती निवासी बल्लू आदिवासीए, लूदे आदिवासी, राजाराम आदिवासी, गंगादीन आदिवासी आदि ने बताया कि उनके यहां शौचालय का निर्माण तो कराया गया लेकिन अधूरा छोड़ दिए जाने से उनका उपयोग नहीं हो सका।

मुन्ना लाल आदिवासी ने गढ्ढे को दिखाते हुए बताया की अधूरा गड्ढा खोदकर छोड़ दिया है। वहीं तीरथ प्रसाद आदिवासी के घर पर शौचालय का निर्माण तो कराया गया छत नहीं डाली गई। जिससे शौचालय कूड़ेदान बने हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned