‘किसानों को कर्ज मुक्तकर स्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करो’


संभागायुक्त कार्यालय के सामने प्रदर्शन जेल भरो आंदोलन...100 किसानों ने दी गिरफ्तारी

By: Rajesh Patel

Published: 18 Aug 2017, 06:26 PM IST

रीवा. राष्ट्रीय किसान महासंघ के आह्वान पर मांगों को लेकर जिले के 100 से ज्यादा किसानों ने सोमवार को गिरफ्तारी दी। संभागायुक्त कार्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन कर किसानों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन संभागायुक्त को सौंपा। इस दौरान किसान नेताओं ने किसानों को कर्ज मुक्त करने और उपज में ५० प्रतिशत मुनाफा जोडक़र फसलों का भाव तय करने के लिए आवाज बुलंद की।

संभागायुक्त कार्यालय के सामने पंडाल लगाकर सभा की
स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले किसानों ने जेल भरो आंदोलन के तहत संभागायुक्त कार्यालय के सामने पंडाल लगाकर सभा की। किसान नेताओं ने कहा कि किसानों को कर्ज माफ करवाने के साथ ही स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार नीति लागू की जाए। स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट में फसल पर 50 फीसदी मुनाफा जोडऩे की सिफारिश की गई है। प्रदर्शन की अध्यक्षता कर रहे बृहस्पति सिंह ने कहा, 9 अगस्त (क्रांति दिवस) से लेकर 14 अगस्त (आजादी दिवस) तक राष्ट्रीय किसान महासंघ जिसमें देश के ६२ किसान संगठन शामिल के द्वारा पूरे देश में जेल भरो आंदोलन चलाया जा रहा है। इसी कार्यक्रम के तहत जिले में भी जेल भरो आंदोलन किया गया। जिसमें 100 से अधिक किसानों ने गिरफ्तारी दी है। गिरफ्तारी की औपचारिकता के बाद देरशाम उन्हें रिहा कर दिया गया।

पदाधिकारियों ने गिरफ्तारी दी

इस अवसर पर भागवत प्रसाद पांडेय, ओम नारायण सिंह, भारतीय किसान यूनियन संघ के जिलाध्यक्ष अनिल ङ्क्षसह, सत्येन्द्र ङ्क्षसह, शोमनाथ कुशवाहा, रामजीत ङ्क्षसह, गिरजेश ङ्क्षसह सेंगर, लालजी, इन्द्रजीत ङ्क्षसह, कमलेश कुमार पटेल, अरुण कुमार तिवारी, बृजेश पाठक, तेजभान ङ्क्षसह, शिवनारायण शर्मा, देवी दयाल शर्मा, आनंद शर्मा, जयंती प्रसाद तिवारी, अनिल ङ्क्षसह, श्यामलाल पटेल, रामेश्वर प्रसाद गुप्ता, रामनुज त्रिपाठी, नरेन्द्र ङ्क्षसह तोमर, अरुण पटेल, जगदीश प्रसाद सहित सैकड़ों किसान और विभिन्न किसान संगठनों के पदाधिकारियों ने गिरफ्तारी दी।
इन संगठनों के पदाधिकारी हुए शामिल
राष्ट्रीय किसान संघ के साथ जिले के राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ, भारीय किसान संघ, भारीय किसान यूनियन संघ, मध्य प्रदेश किसान संघ, संघर्ष समिति, राष्ट्रीय सेवा दल सहित अन्य संगठन के पदाधिारी शामिल हुए।

Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned