नगर निगम कर्मचारियों ने कार्यालय का नहीं खोला ताला, इस कारण बैठ गए धरने पर

Manoj singh Chouhan

Publish: Jul, 13 2018 02:45:58 PM (IST)

Rewa, Madhya Pradesh, India
नगर निगम कर्मचारियों ने कार्यालय का नहीं खोला ताला, इस कारण बैठ गए धरने पर

कर्मचारियों की अनिश्चिकालीन हड़ताल

रीवा. नगर निगम के कर्मचारियों की अनिश्चिकालीन हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही। कर्मचारियों ने नगर निगम के कार्यालय का ताला ही नहीं खोला और बाहर ही धरने पर बैठकर नारेबाजी करते रहे। छह सूत्रीय मांगों को लेकर शुरू किया गया प्रदेश व्यापी आंदोलन रीवा में भी शुरू किया गया है। इस हड़ताल के कारण नगर निगम आने वाले शहर के लोगों को बिना काम कराए ही लौटना पड़ रहा है।

सरकार हर बार गुमराह कर रही

धरना स्थल पर कर्मचारियों को संबोधित करते हुए प्रदेश संगठन सचिव अच्छेलाल पटेल ने कहा कि दूसरे विभागों को सरकार तत्काल सुविधा उपलब्ध कराती है। नगरीय निकायों के कर्मचारियों को हर बार अपनी मांगों के लिए आंदोलन करना पड़ता है। समयमान वेतनमान जैसी मांगो को लेकर लंबे समय से आंदोलन किया जा रहा हैऔर सरकार हर बार गुमराह कर रही है। संगठन के जिला अध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह ने मेडिकल भत्ते को लेकर की जा रही मांग को विस्तार से कर्मचारियों के सामने रखा।

श्रमिकों को नियमित किए जाने की मांग

जिला महामंत्री राजेश चतुर्वेदी ने कम्प्यूटर ऑपरेटर के पदों का सृजन, अनुकम्पा नियुक्ति सरलीकरण आदि को लेकर मांगे रखी। निगम इकाईके अध्यक्ष अरुण शुक्ला, मुन्नालाल ने कर्मचारियों को 2007 से 2016 तक के दैनिक वेतनभोगी श्रमिकों को नियमित किए जाने की मांग की। इस दौरान कर्मचारी नेता बुद्ध सिंह करौसिया, रावेन्द्र सिंह, हेमंत त्रिपाठी, केशव पटेल, संतोष सिंह बघेल, सुखेन्द्र चतुर्वेदी, अतुल सिंह, द्वारिका पटेल, सुनील चुटेले, रंजीत सिंह, अरुण पांडेय, विद्यार्थी शुक्ला, सूर्यकुमार तिवारी, त्रिलोकी गुप्ता सहित अन्य कर्मचारी मौजूद रहे।

अव्यवस्था नहीं फैले इसका भी ध्यान रखें: आयुक्त

हड़ताली कर्मचारियों ने नगर निगम के आयुक्त आरपी सिंह और अधीक्षण यंत्री शैलेन्द्र शुक्ला से मुलाकात की। अधिकारियों ने कहा है कि हड़ताल के लिए कर्मचारी स्वतंत्र हैं लेकिन मूलभूत सेवाएं बाधित नहीं हो ऐसा प्रयास करें। शहर में सफाईऔर अन्य व्यवस्थाएं एक बार बेपटरी हुईतो कईदिनों तक मेहनत करनी होगी।

Ad Block is Banned