बच्चों को प्रवेश दिलाने के नाम ठगे गए अभिभावक, मामला जानकर उड़ जायेंगे होश

सिविल लाइन थाने में परिजनों ने दर्ज कराई शिकायत, पुलिस जांच में जुटी, शहर के उत्कृष्ट विद्यालय में प्रवेश के नाम भृत्य ने लिए थे रुपए

By: Shivshankar pandey

Published: 20 Jul 2019, 09:11 PM IST

रीवा। शहर के उत्कृष्ट विद्यालय में प्रवेश के नाम पर अभिभावकों से भृत्य ने रुपए ऐंठ लिये। आरोपी ने बच्चों का प्रवेश तो नहीं करवाया उल्टा अब रुपए वापस मांगने पर परिजनों के साथ गाली-गलौज कर रहा है। शनिवार को यह मामला थाने पहुंच गया जहां अभिभावकों ने शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस अब इस मामले की जांच में जुट गई है।

उत्कृष्ट विद्यालय के भृत्य ने की घटना
शहर के उत्कृष्ट विद्यालय में प्रवेश के नाम पर भृत्य सुरेश द्विवेदी ने कई लोगों को अपना शिकार बनाया है। प्रवेश से वंचित रहने वाले छात्रों के अभिभावकों को प्रवेश दिलवाने का झांसा दिया। उसने प्रति छात्र 3000 से 4500 रुपए तक ऐंठे थे। जिन लोगों से उसने पैसा लिया था उनमें किसी का भी प्रवेश नहीं हुआ। कई दिनों तक चक्कर काटने के बाद परिजनों को जब विश्वास हो गया कि अब वह प्रवेश नहीं करवा पाएगा तो उन्होंने अपने पैसे वापस मांगे। वह अब पैसा वापस करने में आनाकानी कर रहा है। आएदिन परिजनों को पैसा देने के लिए बुलवाता है और बाद में लापता हो जाता है। बताया गया है कि वह किसी अन्य विद्यालय मेें भृत्य है और उस समय प्रशिक्षण चल रहा था जिसके लिए उसे उत्कृष्ट विद्यालय में बुलाया गया था। उसी दौरान उसने प्रवेश के लिए भटक रहे परिजनों को झांसा देकर उनको चूना लगा दिया।

परिजनों ने दर्ज कराई शिकायत
इस पूरे मामले को लेकर शनिवार को शिवम मिश्रा निवासी लालगांव ने सिविल लाइन थाने पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई है। उनसे छोटे भाई का कक्षा 11वीं में प्रवेश के नाम पर आरोपी ने 4500 रुपए लिये थे और अब रुपए वापस नहीं कर रहा है। उनकी शिकायत लेकर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस आरोपी के संबंध में जानकारी जुटा रही है।

जांच के बाद होगी कार्रवाई
विद्यालय में प्रवेश के नाम पर रुपए ऐंठने की शिकायत थाने आई है। युवक ने थाने में आवेदन दिया है जिसकी जांच कराई जायेगी। जांच में जो तथ्य सामने आऐंगे उस आधार पर कार्रवाई की जायेगी।
शशिकांत चौरसिया, थाना प्रभारी सिविल लाइन

Show More
Shivshankar pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned