scriptthe weather hits, raw mango is getting five times more expensive | महंगाई के साथ मौसम की मार, पांच गुना महंगा मिल रहा है कच्चा आम | Patrika News

महंगाई के साथ मौसम की मार, पांच गुना महंगा मिल रहा है कच्चा आम

अभी 'आम' के लिए करना होगा 15 दिन इंतजार, हरी सब्जियों की आवक भी कमजोर

रीवा

Published: April 01, 2022 08:21:11 pm

रीवा. दो दशक बाद इस साल फरवरी में पड़ी कड़ाके की ठंड और मार्च में औसत से अधिक गर्मी के कारण जलवायु परिवर्तन (ग्लोबल वार्मि)स की मार आम व ग्रीष्मकालीन सब्जी फसलों पर पड़ी है। फरवरी में हाड कंपाने वाली ठंड के चलते आम के पेड़ में बौर इस साल एक माह की देरी से आए। इसके चलते आम की फसल एक माह लेट हो गई।

raw_mango_is_getting_five_times_more_expensive.png

अमूमन 15 मार्च के बाद मंडियों में देशी कच्चे आम की आवक शुरू हो जाती थी, लेकिन इस साल फसल लेट होने के कारण फलों के राजा आम के स्वाद के लिए अभी 15 दिन और इंतजार करना पड़ सकता है। वहीं जलवायु अप्रैल में भी बाजार से तरबूज, भिंडी परिवर्तन की मार ग्रीष्मकालीन कद्दू व करैली की आवक नहीं हो पा रही फसलों पर भी पड़ी है। मार्च में गर्मी का टॉनिक तरबूज व खरबूजा की आवक शुरू जाती थी। लेकिन, इस साल फसल प्रभावित होने के कारण अप्रेल में भी बाजार से तरबूज, भिंडी और करेली की आवक नहीं हो पा रही है।

अभी 5 गुना अधिक दाम
मौसम परिवर्तन की मार के चलते आम बाजार से गायब है। दक्षिण भारत से आम की मंडियों में जो थोड़ी बहुत आवक हो रही है, उसके दाम चार गुना तक अधिक हैं। बाजार में कच्चा आम 80-100 रुपए किलो मिल रहा है। इसी प्रकार अप्रैल में 15 रुपए किलो बिकने वाली भिंडी के भाव बाजार में 60 से 70 रुपए किलो बोले जा रहे हैं। लोकल व यूपी से आने वाला तरबूज भी अभी बाजार से नरारद है।

बढ़ सकते हैं दाम
कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि इस साल ठंड का मौसम लंबा खिंचने के कारण पहले आम में बौर देरी से आई। उसके बाद मार्च में तापमान अचानक बढ़ गया। इससे आम की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है। मौसम परिवर्तन के कारण आम की फसल देरी के साथ कम भी है। विंध्य के देशी आम के साथ यूपी से आने वाले बादाम, तोतापुरी व अन्य कल्‍मी आम पर भी मौसम की मार पड़ी है।

इसलिए लेट हुई फसल
कृषि वैज्ञानिक डॉ.राजेश सिंह का कहना है कि आम के पेड़ों में बौर लगने के लिए तापमान 15 से 30 डिग्री सेल्सियस के बीच होना चाहिए। इसके लिए 15 जनवरी से 15 फरवरी के बीच का समय अनुकूल होता है। इसलिए हर साल इस अवधि में आम में बौर लग जाती है। बौर में फल बनने में एक माह का समय लगता है। इसलिए मार्च तक आम की आवक बाजार में शुरू हो जाती है, लेकिन इस साल 30 फरवरी तक कड़ाके की ठंड पड़ी और तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम रहा इसके कारण आमों में बौर मार्च के प्रथम सप्ताह में आने के कारण फसल एक माह लेट हो गई है।

आया मौसम पतझड़ का
वसंत ऋतु की विदाई के साथ पतझड़ का मौसम शुरू हो गया है। पेड़ों से एक-एक कर झड़ रहे पत्ते प्रकृति में नीरसता घोल रहे हैं। बदले मौसम को देख धरती ने भी सूखे पत्तों की ओढनी ओढ़ ली है। पत्तों को अपने से अलग कर पेड़ ग्रीष्मऋतु के आगवन का संकेत दे रहे हैं। पतझड़ के बाद ही बहार आती है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

कश्मीर में आतंकी हमले में टीवी एक्ट्रेस की मौत, 10 साल के भतीजे पर भी हुई फायरिंगसुरक्षा एजेंसियों ने यासीन मलिक की सजा के बाद जारी किया आतंकी हमले का अलर्टIPL 2022, LSG vs RCB Eliminator Match Result: पाटीदार के दम पर जीता RCB, नॉकआउट मुकाबले में LSG को 14 रनों से हरायाटेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते हो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.