किसानों के खेत की मिट्टी की सेहत से खिलवाड़ कर रहे ये अधिकारी, परीक्षण केन्द्र नहीं हुए चालू

किसानों के खेत की मिट्टी की सेहत से खिलवाड़ कर रहे ये अधिकारी, परीक्षण केन्द्र नहीं हुए चालू

Rajesh Patel | Publish: May, 17 2019 09:21:58 PM (IST) | Updated: May, 17 2019 09:21:59 PM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

जिले में किसान ने नहीं जानते खेत की मिट्टी की सेहत, ब्लाक पर बनाए गए मिली लैबों में चालू नहीं हो सकी मिट्टी की जांच, जिले में मुख्यालय से लेकर ब्लॉक स्तर पर बनाए गए हैं लाखों के मिनी लैब

रीवा. जिले में कृषि विकास अधिकारियों की अनदेखी के चलते लाखों रुपए की लागत से बनाए गए मिनी लैब में धूल की लेयर जम रही है। किसानों के खेतों की मिट्टी की सेहत परखने के लिए जिले के आठ ब्लाक में बनाए गए मिनी लैब कृषि अधिकारियों के मनमानी की भेंट चढ़ गए हैं। जिला मुख्यालय पर छोड़ ब्लॉक स्तर पर बनाए गए मिनी लैबों में उपकरण के आभाव में जांच चालू नहीं हो सकी है। विभागीय अधिकारी लोकसभा चुनाव की आचार संहिता बताकर पल्लाझाड़ रहे हैं।

ब्लाक स्तर पर मिली लैब बनकर तैयार
उन्नत खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार कई योजनाएं चला रही है। जिसमें मृदा परीक्षण भी शामिल हैं। किसानों को बेहतर उत्पादन मिले, इस उद्देश्य से सरकार ने ब्लाक स्तर पर मिट्टी परीक्षण केन्द्र यानी मिनी लैब बना दिया है। जिले में लाखों रुपए की लागत से आठ ब्लाक मुख्यालयों पर जांच केन्द्र बनाया है। कृषि विस्तार अधिकारियों ने बताया कि छह माह पहले विभाग को लैब हैंडओवर कर दी गई हैं। इसके बाद भी किसानों के खेतों की मिट्टी के सेहत की जांच नहीं चालू हो सकी है। जिम्मेदार लापरवाह बने हैं। बताया गया है कि लैब में उपकरण नहीं होने से समस्या आ रही है।

आठ ब्लॉक की प्रगति शून्य, रायपुर कर्चुलियान ने भेजा 165 नमूना
जिला मुख्यालय पर किसानों के खेत की मिट्टी की सेहत परखने के लिए अभी तक रायपुर कर्चुलियान ने १६५ नमूने भेजा है। जबकि अन्य आठ ब्लाकों की प्रगति अभी तक शून्य है। किसान खरीफ फसल की बोनी के लिए अभी तक मिट्टी की सेहत नहीं जान सकें हैं। किसान संघ के जिलाध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि अप्रेल से ही मिट्टी के नमूने लैब में पहुंचने लगते हैं। लेकिन, जिले में कृषि विभाग के अधिकारियों की मनमानी के चलते अभी तक किसानों के खेत की मिट्टी के नमूने तक नहीं लिए गए। मई माह का भी आधा समय बीत गया। बाद भी अभी तक महज एक ब्लाक ने नमूने भेजे हैं।
इन ब्लॉकों में बनकर तैयार हो गई है मिनी लैब
किसानों के खेत की मिट्टी की सेहत परखने के लिए जिले के आठ ब्लाक में मिनी लैब बनाए गए हैं। कृषि विभाग कार्यालय के अनुसार जिले के रायपुर कर्चुलियान, सिरमौर,त्योंथर, जवा, गंगेव, मऊगंज, नईगढ़ी और हनुमना मिनी लैब बनकर तैयार हो गई।
वर्जन...
लैब में मिट्टी नमूनों के परीक्षण का काम चालू हो गया है। रायपुर कर्चुलियान से १६५ नमूने आए हैं। हां ये जरूर है कि चुनाव के कारण मिट्टी के नमूने कम आए हैं। अब आना चालू हो गए हैं।
आरके पटेल, वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी, मृदा परीक्षण केन्द्र रीवा

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned