टोंस वाटर फाल में पर्यटकों के बीच विवाद-तोडफ़ोड़ के बाद प्रवेश बंद, विवाद की ये रही वजह

- युवतियों पर अभद्र टिप्पणी के कारण शुरू हुआ था विवाद
- सिरमौर के वन अमले ने भीड़ पर नियंत्रण नहीं कर पाने की सूचना डीएफओ को दी

By: Mrigendra Singh

Published: 15 Jul 2020, 03:13 PM IST


रीवा। बरसात के दिनों में पर्यटकों से गुलजार रहने वाले टोंस वाटर फाल में सुरक्षा व्यवस्था की कमी से विवाद की स्थिति निर्मित हो रही है। पर्यटकों को दो समूहों की आपस में हुई कहासुनी विवाद में परिवर्तित हो गई। दोनों पक्षों की ओर से पत्थरबाजी और तोडफ़ोड़ की गई। इतना ही नहीं वहां पर तैनात वन विभाग के कर्मचारियों ने बीच बचाव का प्रयास किया तो उनके साथ भी अभद्रता की गई।

इसके बाद नशे में धुत कुछ युवकों ने टोंस वाटर फाल परिसर में लगाए गए सिटआउट एवं अन्य उपकरणों में भी तोडफ़ोड़ की। इस घटना के बाद वन विभाग ने तय किया है कि जब तक ठोस सुरक्षा व्यवस्था नहीं मिलेगी तब तक टोंस वाटर फाल में पर्यटकों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इसका सूचना बोर्ड भी बाहर लगा दिया गया है। साथ ही डीएफओ सहित अन्य अधिकारियों को भी रिपोर्ट भेजी गई है।

- नशे में कई युवकों ने मचाया उत्पात
टोंस वाटर फाल में जिस दौरान विवाद हुआ, कई युवक नशे में थे। बताया गया है कि बाहर से फाल देखने आई युवतियों पर अभद्र टिप्पणी करने के चलते यह विवाद उत्पन्न हुआ। पहले गाली-गलौज शुरू हुआ फिर धक्का मुक्की और बाद में पत्थर भी एक-दूसरे पर बरसाए गए। घटना के बाद एक पक्ष के लोग चले गए फिर भी दूसरे पक्ष के युवकों ने जमकर उत्पात मचाया। बताया गया है कि इस दौरान युवक नशे में धुत थे।

- पहले भी होता रहा है विवाद
वाटरफाल में जिले के साथ ही दूसरे जिलों से भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। इस दौरान लोगों की आपस में कई बार कहासुनी हो चुकी है। वन विभाग के पास पर्याप्त संख्या में अमला नहीं है, जिसकी वजह से कई हिस्से सूनसान वाले भी हैं। जिसके चलते सौंदर्यीकरण के लिए लगाई गई सामग्री में पहले भी तोडफ़ोड़ की गई थी। परिसर में आए दिन शराब की बोतलें पड़ी मिलती हैं। पूर्व में इसकी शिकायत वन विभाग की ओर से सिरमौर थाने में भी दर्ज कराई गई है।

--

टोंस वाटरफाल में कई दिनों से विवाद की स्थितियां पर्यटकों के बीच बन रही हैं। अब कुछ ज्यादा हो गया है, किसी दिन बड़ी घटना हो सकती है। इसलिए वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करते हुए पर्यटकों का प्रवेश बंद कर दिया है। जब तक पुलिस सुरक्षा नहीं मिलती, तब तक बंद ही रहेगा।
केके पाण्डेय, वनपरिक्षेत्राधिकारी सिरमौर

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned