चार महीने में इन कारणों से नहीं सुधर रही है ट्रैफिक व्यवस्था, जानिए कौन है जिम्मेदार

यातायात पुलिस को करना है नियमों का पालन

By: Lokmani shukla

Published: 01 Jul 2019, 01:03 PM IST

रीवा। शहर की बेपटरी यातायात व्यवस्था सुधारने के लिए चार महीने पहले सड़क सुरक्षा की उपसमिति की बैठक में १४ निर्णय लिए गए थे। इनका पालन कराने पर शहर की बेलगाम यातायात व्यवस्था काफी सुधार सकती है, बावजूद इसके इन पर कोई अमल नहीं हुआ है। स्थित यह है कि चार महीने पहले लिए गए एक भी निर्णय को धरातल पर विभाग नहीं उतर पाया है। परिणाम स्वरुप शहर की बिगड़ी यातायात व्यवस्था के कारण लोग जाम में जूझ रहे हैं। दोपहर गर्मी मेंं फंसे जाम से लोगों का हाल-बेहाल हो जाता है। जबकि इन सभी निर्णयों का पालन यातायात, नगर निगम एवं लोक निर्माण विभाग को कराना है।
बताया जा रहा है शहर में ट्रैफिक व्यवस्था के कारण प्रमुख चौराहों में जाम की स्थिति बनती है। इनमें अस्पताल चौराहा, गुढ़ चौराहा, धोबिया टंकी, प्रकाश चौराहा , स्टेच्यू चौराहा, जयस्तंभ, न्यू बस स्टैंड, ढेकहा चौराहा, पुराने बस स्टैंड में जाम लग जाता है। इसे लेकर कई बार आइजी एवं नगर निगम आयुक्त सड़क में उतर चुके हैं लेकिन इसके बावजूद व्वस्था में कोई सुधार नहीं आया है। रोजना जाम लगने वाहनों के धुएं से जहां वातावरण दूषित होता है। वहीं इधन भी अधिक खपत के साथ ही शहरियों को परेशान होना पड़ता है।


लोकनिर्माण विभाग
- रतहरा से बाईपास मार्ग एवं रिंग रोड पर सिग्नल लगाए जाने थेे, जिससे वाहन चालक को दूर से जानकारी हो सके ।
- न्यू बस स्टैंड के सामने सड़क चौड़ीकरण व शिल्पी कुंज के सामने टैक्सी स्टैंड को विक सित करना था जिसे टैक्सी सड़क पर नहीं खड़ी हो।
- रेलवे मोड़ से समान तिराहे के डिवाइडर के अवांछनीय कट प्वाइंट को बंद करना।
-कालेज चौराहा में सिग्नल के पास जेब्रा लाइन बनाना, जिससे पदैल लोग सुरक्षित निकल सके ।

नगर निगम
-अस्पताल चौक में हाकर्स जोन व वाहन पार्किंग को व्यवस्ति करना, जिससे जाम न लगे।
- सड़क में अवारा पशुओं को हटाना, जिससे दुर्घटना में जानवर व लोग दोनों सुरक्षित रहे।
- शिल्पी प्लाजा से अवैध पार्किंग को हटाकर दूसरे स्थान में स्थापित करना।
- मार्तंड स्कूल के सामने डिवाइडर की मरम्मत कर उसमे पेंट करना, जिससे वाहन चालकों को दूर से पता चल सके।
- प्रकाश चौराहा से धोबिया टंकी तक डिवाइडर का निर्माण करना। वहीं रेड जोन चौराहों को अतिक्रमण मुक्त करना।

यातायात विभाग-
-ज्योति स्कूल के बच्चों को निकलने के लिए पीछे गेट का उपयोग, जिससे मुख्य सड़क बाधित नहीं हो।
- शिल्पी प्लाजा में बाहर सड़कों में खड़े वाहनों को पार्किंग में व्यवस्थित करना
- पुराने बस स्टैँड के सामने यातायात सुगम बनाने व टैक्सियों व आंॅटो के कारण लगने वाले जाम की समस्या को दूर करना।
- शहर में बिना परमिट ऑटो के संचालन पर कार्रवाई करने एवं ऑटो के रुट निर्धारित करने का काम।
- दो पहिया व चार पहिया वाहनो में लगे प्रेशर हार्न को हटवाने एवं चलानी कार्रवाई करना था।

 

Lokmani shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned