सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुद बीमार, इलाज को दर-दर भटक रहे मरीज

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुद बीमार, इलाज को दर-दर भटक रहे मरीज
Vanishing doctor

Anil Kumar | Updated: 14 Jul 2019, 05:36:21 PM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुद बीमार, इलाज को दर-दर भटक रहे मरीज
स्वास्थ्य केन्द्र में नहीं बीपी नापने की मशीन

रीवा/देवरी. सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नईगढ़ी अव्यवस्था का शिकार है। न तो समय पर चिकित्सक आते और न ही सुविधाएं ही हैं। जिससे मरीजों को भटकना पड़ रहा है। स्थिति यह है कि बॉटल लगवाने के लिए मरीज भटकते रहते हैं।
मरीजों को बॉटल देकर टरका देती हैं नर्सें
नर्सें मरीजों को बॉटल दे देती हैं और कह दिया जाता है कि जाकर लगवा लो। इतना ही नहीं स्वास्थ्य केन्द्र में बीपी नापने तक की मशीन नहीं है। जानकारी के अनुसार नईगढ़ी अस्पताल में 30 बिस्तर की जगह 10 बेड संचालित हैं। आजादी के 60 दशक बीत जाने के बाद भी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नईगढ़ी को न तो भवन मिला न तो स्वीकृत पदों के अनुसार डॅाक्टर ही मिल पाए।

कोई महिला चिकित्सक नहीं
यहां पर एक भी महिला डॉक्टरों की नियुक्ति नहीं की गई है। पर्याप्त संख्या में स्टॉफ नर्सें भी नहीं हैं। जिससे यहां मरीजों को इलाज एवं दवाइयां नहीं मिल पा रही हैं।
बताया गया है कि ग्राम बड़ी चमढिय़ा निवासी 80 वर्षीय सुमेश्वर साकेत पिता महाबली साकेत की तबियत खराब होने के कारण सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र आए थे।

बीपी नापने की मशीन भी नहीं
उन्होंने डॉक्टर को दिखाया तो डॉक्टर ने बॉटल चढ़ाने के लिये लिखा दिया। वहीं एक नर्स उनको बॉटल देकर गायब हो गई। वहीं ग्राम टटिहरा निवासी सुभलायक पटेल समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नईगढ़ी में ब्लेड प्रेशर चेक कराने गये तो डॉक्टरों ने कहा कि बीपी नापने की मशीन नहीं है। जिससे उनको बैरंग लौटना पड़ा। इतना ही नहीं समुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नईगढ़ी में रोगी कल्याण समिति की राशि का जमकर दुरूपयोग किया जा रहा है। इसकी जांच होनी चाहिए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned