scriptVindhya's voter's lesson to the politicians | विंध्य के वोटर : भविष्य की सियासी तस्वीर दिखा रहे हैं चुनाव के परिणाम | Patrika News

विंध्य के वोटर : भविष्य की सियासी तस्वीर दिखा रहे हैं चुनाव के परिणाम

- जानें इस चुनाव में आपके क्षेत्र की जनता ने दिया राजनीतिक पार्टियों को कौन सा सबक

- नगरीय निकाय चुनाव: वोटर ने सूबे के हर इलाके से दिया सियासी सबक

रीवा

Published: July 21, 2022 12:36:16 pm

@पुष्पेंद्र पांडेय

चुनावी वादों और दावों के नतीजे अब सबके सामने हैं... किसी के गले में जीत का ‘हार’ आया तो किसी के चिंतन में... दावे और वादे अब भी हो रहे हैं... इन सबके बीच मध्यप्रदेश में नई स्थानीय सरकारें आकार ले रही हैं... गांव से लेकर कस्बों और शहरों तक आकार ले रही हैं जनता की उम्मीदें भी... इन आशाओं पर खरे उतरकर ही राजनीतिक दल विधानसभा चुनाव में अपने नैया पार लगा सकेंगे... बहरहाल हम विश्लेषण कर बता रहे हैं कि इन चुनावों से किसे क्या सबक मिला... कौन कहां मजबूत रहा और कहां कमजोर...

vindhya.png
,,

ऐसा है विंध्य की जनता का सियासी सबक
सात साल बाद हुए गांव और नगर सरकार चुनाव के परिणाम विंध्य में अप्रत्याशित रहे हैं। महापौरी जीतकर आम आदमी पार्टी ने सिंगरौली के रास्ते सूबे में प्रवेश किया तो कांग्रेस 25 साल बाद रीवा में भाजपा का तिलिस्म तोड़ पाई। सतना में भी बड़ी मुश्किल से भाजपा की इज्जत बची। विंध्य के ये नतीजे आगे की सियासत की कुछ और ही तस्वीर दिखा रहे हैं। रीवा संभाग में तीन नगर निगम और दो नगर पालिका सहित 26 निकाय हैं।

ज्यादातर भाजपा के कब्जे में थे। इस बार दो नगर निगम में महापौर सीट भाजपा से छिन गई। रीवा में कांग्रेस ने तो सिंगरौली में ‘आप’ ने कब्जा जमाया है। संभाग की दो नगर पालिका में से सीधी कांग्रेस के हाथ चली गई, जबकि मैहर का गढ़ भाजपा ने जीत लिया। 17 नगर परिषद में से 14 पर भाजपा, तीन पर कांग्रेस का वर्चस्व है।

रीवा में राजेन्द्र शुक्ला जैसे कुशल संगठक के होते हुए भी पार्टी एक नहीं हो पाई और उसे नगर निगम में हार मिली। वर्षों से कांग्रेस के कब्जे में रही मैहर नगर पालिका के लोगों ने भाजपा को बढ़त देकर विधायक नारायण त्रिपाठी को एक तरह से आगाह किया है। सीधी-चुरहट में भाजपा की हार कांग्रेस की वापसी के संकेत हैं तो चुरहट विधायक शरदेंदु तिवारी को अलर्ट करने वाले हैं।

विंध्य के इकलौते मंत्री रामखेलावन पटेल का घर अमरपाटन नगर परिषद भी भाजपा हार गई। भाजपा विधायक नागेंद्र सिंह के ‘दुर्ग’ नागौद नगर परिषद पर भी कांग्रेस ने कब्जा कर लिया। ये नतीजे कांग्रेस के लिए संजीवनी साबित हो रहे हैं तो सत्ताधारी नेताओं के लिए सीख।

25 वर्ष से भाजपा के कब्जे में रहे रीवा निगम में कांग्रेस को मिली जीत भी कई मायने में अहम है। 2018 के विधानसभा चुनाव में यहां कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया था, लेकिन इस चुनाव में जिस तरीके से कांग्रेस के सभी बड़े नेता एकजुट दिखे उसका ही परिणाम है कि 25 साल बाद भाजपा का विजय रथ रुक गया। रीवा की इस जीत से विंध्य के कांग्रेसियों में उत्साह है। पिछला विधानसभा चुनाव हारने के बाद से उपेक्षित महसूस कर रहे अजय सिंह, पूर्व विस उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह, पूर्व विधायक यादवेंद्र सिंह ने कांग्रेस को बढ़त दिलाकर सियासी ताकत का अहसास कराया है।

विंध्य में कांग्रेस के पतन का प्रमुख कारण खेमेबाजी रही है। यह अब भाजपा में भी सामने आ रही है। रीवा-सतना में संगठन और विधायक का तालमेल नहीं दिखा तो यही हाल सीधी और सिंगरौली में भी रहा। भाजपा नेताओं ने पंचायत चुनाव में जिस तरह से ताकत झोंकी थी और जनता ने उनके परिवार और समर्थकों को नकार दिया, उससे संदेश जाता है कि जनता ने मर्जी से विधायक चुना था।

नेता उसे अपने जेब का वोट मानने की भूल न करें। यही कारण रहा कि विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम अपने पुत्र और मनगवां विधायक पंचूलाल अपनी पत्नी को जिला पंचायत का चुनाव नहीं जिता पाए। राज्यसभा सदस्य राजमणि पटेल के बेटे और पूर्व विधायक व भाजपा के कद्दावर नेता प्रभाकर सिंह के बेटे का चुनाव हार जाना भी नए सियासी समीकरणों की ओर इशारा करता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

IND vs ZIM: शिखर धवन और शुभमन गिल की शानदार बल्लेबाजी, भारत ने जिम्बाब्वे को 10 विकेट से हरायाकौन हैं IAS राजेश वर्मा, जिन्हें किया गया राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का सचिव नियुक्त?पटना मेट्रो रेल के भूमिगत कार्य का CM नीतीश कुमार ने किया उद्घाटन, तेजस्वी यादव भी रहे मौजूदMaharashtra Suspected Boat: रायगढ़ में मिली संदिग्ध नाव और 3 AK-47 किसकी? देवेंद्र फडणवीस ने किया बड़ा खुलासाBihar News: राजधानी पटना में फिर गोलीबारी, लूटपाट का विरोध करने पर फौजी की गोली मारकर हत्यादिल्ली हाईकोर्ट ने फ्लाइट में कृपाण की अनुमति देने पर केंद्र और DGCA को जारी किया नोटिसSSC Scam case: पार्थ चटर्जी, अर्पिता मुखर्जी 14 दिन की न्यायिक हिरासत पर भेजे गए, 31 अगस्त को अगली पेशीRohingya Row: अनुराग ठाकुर का AAP पर आरोप, राष्ट्र सुरक्षा से समझौता कर रही दिल्ली सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.