बीहर नदी की धार टूटी तो शहर में शुरू हो गया पानी का संकट, लोग हो रहे परेशान

- बीहर नदी में बाणसागर का पानी बंद करने से उत्पन्न हुई समस्या
- अजगरहा फिल्टर प्लांट से होने वाली सप्लाई हुई बाधित, आंशिक सप्लाई हुई

By: Mrigendra Singh

Published: 21 May 2020, 08:58 PM IST



रीवा। बीहर नदी में आने वाले बाणसागर बांध के पानी बंद होने से शहर में जलसंकट की शुरुआत होने लगी है। कई हिस्सों में पेयजल सप्लाई बाधित हुई है। कुछ हिस्सों में आंशिक रूप से असर पडऩा शुरू हुआ है। इसके लिए नगर निगम ने करीब सप्ताह भर पहले ही सूचना जारी कर दी थी कि सप्ताह भर पेयजल का संकट बना रहेगा। बीते 15 मई से 23 मई तक के लिए बाणसागर बांध का पानी बंद है। शहर के निपनिया में बीहर नदी पर पुल बनाया जा रहा है। जिसके लिए पानी की आवक रोकी गई है। नदी में बनाए गए इंटकवेल के पास पानी अब तक मौजूद रहा, जिससे फिल्टर प्लांट चलते रहे। लेकिन अब पानी की मात्रा घटी है तो फिल्टर प्लांटों को भी पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा है। शहर में आगामी कुछ दिनों तक पेयजल संकट की आशंका के चलते नगर निगम के प्रशासक संभागायुक्त अशोक भार्गव ने एक दिन पहले ही कुठुलिया फिल्टर प्लांट का निरीक्षण किया था, उन्होंने निगम के अधिकारियों और सीएमआर कंपनी को निर्देशित किया है कि पानी की सप्लाई जारी रखें, प्रयास भी हो कि नालियों पर बहने वाले पानी की फिजूलखर्ची नहीं हो।


- अजगरहा फिल्टर प्लांट से हुई समस्या
शहर के अजगरहा फिल्टर प्लांट से पानी की सप्लाई पर असर अधिक पड़ा है। इससे सिविल लाइन, सैनिक स्कूल, सुंदरनगर, शिवनगर, विश्वविद्यालय, निरालानगर सहित अन्य टंकियां भरी जाती हैं। पर्याप्त मात्रा में पानी टंकियों तक नहीं पहुंचा, इस कारण मोहल्लों में होने वाली पानी की सप्लाई पर भी असर पड़ा है। संबंधित मोहल्लों के लोगों ने बताया कि १५ से २० मिनट तक ही पानी की सप्लाई हुई है। जिससे आवश्यकता के अनुसार पानी नहीं भर पाए हैं। गर्मी का मौसम होने के चलते पानी की खपत अधिक होती है, इससे लोगों को परेशानी भी बढ़ी है। हालांकि निगम के अधिकारियों का दावा है कि पानी की समस्या शहर में नहीं होने देंगे।


- नहर का पानी छोड़ा जाएगा
संभागायुक्त ने निरीक्षण के बाद जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों से कहा है कि बीहर और बिछिया नदियों में आने वाले बाणसागर बांध के पानी की आंशिक आवक शुरू कराएं ताकि जो समस्या है उसे दूर किया जा सके। बताया गया है कि नदी में पानी छोडऩे की तैयारी की जा रही है। इसलिए धार चलती रही तो शहर में पेयजल का संकट नहीं होगा। इसके साथ ही निपनिया पुल का जहां पर नदी में निर्माण हो रहा है, वहां के ठेकेदार से कहा गया है कि पिलर जहां बना रहे हैं उसके किनारे से पानी निकलने की व्यवस्था करें ताकि शहर की पेयजल सप्लाई भी बाधित नहीं हो। माना जा रहा है कि यदि पानी की आवक नदी में शुरू हो जाएगी तो जलसंकट पैदा नहीं होगा।


- टैंकरों से भेजा पानी
शहर के उन प्रमुख मोहल्लों में पानी के टैंकर भी भेजे जा रहे हैं, जहां पर सप्लाई बाधित हो रही है। हालांकि अभी कुठुलिया एवं रानीतालाब फिल्टर प्लांट से पर्याप्त मात्रा में पानी सप्लाई होने के चलते शहर के अन्य हिस्सों में संकट उत्पन्न नहीं हुआ है। अभी एक-दो दिन तक यहां कोई प्रभाव भी नहीं पड़ेगा। निगम के अधिकारियों का कहना है कि जहां पर भी अधिक समस्या है वहां पर टैंकरों के माध्यम से पानी पहुंचाया जा रहा है।

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned