scriptWires of many bank employees related to fake accounts in hawala busine | हवाला कारोबार में फेक खातों से जुड़े कई बैंक कर्मचारियों के तार, विवेचना में कइयो के नाम | Patrika News

हवाला कारोबार में फेक खातों से जुड़े कई बैंक कर्मचारियों के तार, विवेचना में कइयो के नाम

सीआइडी की जांच के दौरान आइसीआइसीआई बैंक के आधा दर्जन फेक खातों से एक्सिस व एचडीएफसी बैंक में लेन-देन के लिंक में मिले थे 5 खाते

रीवा

Published: August 22, 2021 08:48:06 am

रीवा. कालेधन को सफेद करने के मामले में बैंकों के कर्मचारियों के भी तार जुड़े हैं। विवेचना के दौरान आइसीसीआई बैंक समेत अन्य बैंकों के कई कर्मचारियों की लिस्ट में नाम शामिल है। सीआइडी से इओडब्ल्यू को जांच स्थानांतरित होने के बाद नए सिरे से विवेचना शुरू हो गई है। सीआइडी की विवेचना के दौरान ही संबंधित बैंकों के कई कर्मचारियों के सह पर फेक खाते में बड़े पैमाने पर लेने-देने होते रहे हैं।
 Hawala business
Hawala business
बैंकों में 11 फेक खाते मिले थे

डभौरा सहकारी बैंक में सीआइडी की जांच के दौरान विभिन्न बैंकों में 11 फेक खाते मिले थे। जिसमें सबसे अधिक आइसीआइसीआई बैंक में हैं। जांच के दौरान सीआइडी को इस बैंक में ओम इंटर प्राइजेज व प्रमोद तिवारी समेत आधा दर्जन खाते संचालित हो रहे थे। शेष पांच खाते एक्सिस व एचडीएफसी बैंक से लेने-देन में जुड़े मले थे। सीआइडी की जांच के दौरान ओम इंटर प्राइजेज में 60 करोड़ रुपए का लेन-देन हुआ था।
हवाला करोबार के लिए पैसे इधर से उधर किए गए थे

आइसीआइसीआई बैंक में वर्ष 2013 से 2015 के बीच फेक खाते में बड़े पैमाने पर हवाला करोबार के लिए पैसे इधर से उधर किए गए थे। तत्कालीन समय इस बैंक की शाखा दीप कॉम्पलेक्स में संचालित हो रही थी। वर्तमान समय में पुराने बस स्टैंड के निकट संचालित हो रही है। डभौरा घोटाले के सह अभियुक्तों ने आइसीआईसीआई बैंक के प्रमोद तिवारी के फेक खाते में 40 लाख रुपए ट्रांर्फर किए थे। ट्रांजेक्शन फेल हो गया था।
10 करोड़ से अधिक का लेन-देन

जांच के दौरान प्रमोद तिवारी के खाते में 10 करोड़ से अधिक का लेन-देन की जानकारी सामने आई थी। पूरे मामले की जांच सीआइडी के प्रभारी डीएसपी मो. असलम ने विभाग को भेज दिया था। जिसकी जांच अब इओडब्ल्यू के अधिकारी कर रहे हैं। इओडब्ल्यू की प्रारंभिक जांच में बैंकों में फेक खाते की जानकारी नए सिरे से जुटाई जा रही है। जिसमें कई कर्मचारियों के नाम लिस्ट में हैं।
वर्ष 2013-2015 के बीच हवाला कारेाबार सबसे अधिक
सीआइडी की जांच के दौरान आइसीआईसीआई बैंक के फेक खाते में वर्ष 2013 से 2015 के बीच हवाला कारोबार में सबसे अधिक लेन-देन हुआ है। तत्तकालीन समय बैंक के जो शाखा प्रबंधक व डिप्टी प्रबंधक रहे हैं। उसी दौरान वर्ष 2015 में एक अन्य सवा करोड़ रुपए का घोटाला हुआ था। जिसका मामला सिविल लाइंस थाने में प्रकरण क्रमांक 185/15 है। मामले में तत्कालीन शाखा प्रबंधक व डिप्टी मैनेजर समेत कई बैंक कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। जिसमें अभी भी कई फरार हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश

बड़ी खबरें

UP Assembly Elections 2022 : गृहमंत्री अमित शाह ने दूर की पश्चिम के जाटों की नाराजगी, जाट आरक्षण को लेकर कही ये बातटाटा ग्रुप का हो जाएगा अब एयर इंडिया, कर्मचारियों को क्या होगा फायदा और नुकसान?झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलाBudget 2022: इस साल भी पेश होगा डिजिटल बजट, जानें कैसे होगी छपाईजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रSchool Closed: यूपी में 15 फरवरी तक बंद हुए सभी स्कूल-कॉलेज, Online Classes जारी रहेंगीUP Police Recruitment 2022 : यूपी पुलिस में हाईस्कूल पास युवाओं के लिए निकली बंपर भर्तियां, जानें पूरी डिटेलहिजाब के बिना नहीं रह सकते तो ऑनलाइन कक्षा का विकल्प खुला : भट्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.