लॉकडाउन में फंसे श्रमिक घर लौटने के लिए बनवा रहा था पास, पिकअप से कुचलकर मौत

गढ़ के श्रमिक की मुंबई में मौत, शुक्रवार रात पहुंचा शव

By: Anil singh kushwah

Published: 10 May 2020, 07:06 PM IST

रीवा. लॉकडाउन में फंसे एक श्रमिक की घर लौटकर अपनों से मिलने की इच्छा अधूरी रह गई। पास बनवाने के लिए दूसरे प्रांत में भटक रहे श्रमिक की वाहन से कुचलकर मौत हो गई। उसके लौटने का इंतजार कर रहे परिजनों को जब उसका शव मिला तो उनके ऊपर दु:खों का पहाड़ टूट पड़ा।

घर पहुंचने की आंस रह गई अधूरी
गढ़ निवासी शंकर उर्फ बबलू कोल पिता शिवनाथ कोल (४०) मुंबई में गोदरेज कंपनी में मजदूरी करता था जो लॉकडाउन के कारण वहां फंस गया था। वह पास बनवाने के लिए शासकीय कार्यालय में गया था लेकिन रास्ते में उसको वाहन ने कुचल दिया जिससे मौत हो गई। घटना के बाद कंपनी ने अपने वाहन से उनका शव रीवा भिजवाया। शुक्रवार रात शव घर पहुंचा।

घटना की सूचना पर परिवार में पसरा मातमी सन्नाटा
घटना से पूरा परिवार गहरे सदमे में है। होली के बाद वह मुंबई में मजदूरी करने गया था जहां लॉकडाउन के कारण फंस गया था। कई दिनों से वह दूसरे प्रांत में भोजन की समस्या से जूझ रहा था। परिजनों ने उसे किसी तरह वापस आने की सलाह दी तो वह मुंबई से लौटने के लिए पास बनवाने को भटक रहा था। दूसरे प्रांत में पास बनवाना भी आसान नहीं था। दहशत के बीच हादसे ने श्रमिक को निगल लिया।

इधर, औरंगाबाद में मृत मजदूरों को दी श्रद्धांजलि
भारतीय मजदूर संघ जिला इकाई ने महाराष्ट्र के औरंगाबाद में शहडोल संभा के रेल दुर्घटना में मृत मजदूरों को श्रद्धांजलि दी है। जिला भारतीय मजदूर संघ के जिलाध्यक्ष बसंत कुमार दुबे ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री से मजदूरों की सुरक्षा और उनको आर्थिक पैकेज देेने की मांग की है। इस दौरान उपेन्द्रमणि पाण्डेय, सोमशेखर शुक्ला, मोरध्वज सिंह, राजेन्द्र शुक्ला, अशोक गुप्ता, मुरारीलाल मिश्र, पूरनलाल लखेरा, रामचण शुक्ल, बुद्ध सिंह करोसिया आदि ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

Anil singh kushwah Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned