भारतीय संस्कृति में महिलाओं व बच्चों को आदर मिलता है

भारतीय संस्कृति में महिलाओं व बच्चों को आदर मिलता है
महिलाओं का हरहाल में करें सम्मान: विधायक

By: Anil kumar

Published: 01 Jul 2019, 11:55 PM IST

रीवा/चाकघाट. नगर में महिला एवं बाल विकास समिति द्वारा लैंगिक अपराधों से बालकों के संरक्षण अधिनियम की जानकारी देने के लिए हनुमान मंदिर परिसर में स्थित मंगलम भवन में कार्यशाला आयोजित की गई।

महिलाओं का अपमान माफी के योग्य नहीं
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि त्योंथर क्षेत्र के विधायक श्यामलाल द्विवेदी ने अपने इस दौरान कहा कि महिलाओं और बच्चों को भारतीय संस्कृति में सदा से आदर और स्नेह के साथ देखा जाता रहा है। इनका अपमान और इनके साथ अमर्यादित कार्य करने वालों को कभी भी माफ नहीं किया जाना चाहिए। सरकार ने भी महिलाओं और बच्चें के साथ घृणित कार्य करने वालों को कठोर दण्ड देने का प्रवधान बनाया है। इस दौरान महिलाओं एवं किशोरियों का सम्मान करने की बात कही गई।

अन्य लोगों ने भी रखे अपने विचार
इस अवसर पर त्योंथर क्षेत्र के वरिष्ठ अधिवक्ता अविनाश सिंह परिहार, त्योंथर जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी महावीर जाटव, महिला बाल विकास एवं स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष महेश सिंह, थाना चाकघाट के उप निरीक्षक संजीव शर्मा, अखिल भरतीय इतिहास संकलन समिति के जिला उपाध्यक्ष एवं साहित्यकार रामलखन गुप्त, महिला बाल विकास की परियोजना अधिकारी अंजना सिंह ने महिलाओं एवं बच्चों की सुरक्षा सम्बन्धी विषय पर अपने विचार रखे।

ये रहे उपस्थित
कार्यक्रम में नगर परिषद के पार्षद उमाशंकर केसरवानी, सुषमा शर्मा,स्नेहलता ढोके, सुषमा काजले, प्राची सिंह, प्रीती उपाध्याय, पूजा मिश्रा, रणधीर सिंह, सुषमा सिंह, ज्योत्सना सिंह सहित अंगनबाड़ी कार्यकर्ता, नगर के गणमान्य नागरिक एवं महिलाएं, बच्चे उपस्थित रहे। इस दौरान बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयजोजित किये गए तथा विभाग में श्रेष्ठ कार्य करने वाले कार्यकर्ताओं को सम्मानित एवं पुरस्कृत किया गया।

Anil kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned