27 हजार विद्यार्थियों को 12वीं के रिजल्ट के फॉर्मूला का इंतजार

माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित होने वाली १२वीं की परीक्षा राज्य सरकार द्वारा र² तो कर दी गई, लेकिन रिजल्ट को लेकर अब तक कोई फॉर्मूला तय नहीं हुआ है। पिछले १५ दिनों से एमपी बोर्ड द्वारा बैठकें आयोजित कर रिजल्ट को लेकर कवायद की जा रही है, लेकिन अब तक कोई फॉर्मूला तय नहीं हुआ है। पहले माशिमं सीबीएसइ के फॉर्मूला का इंतजार कर रहा था।

By: Atul sharma

Published: 23 Jun 2021, 09:10 PM IST

सागर.माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित होने वाली १२वीं की परीक्षा राज्य सरकार द्वारा र² तो कर दी गई, लेकिन रिजल्ट को लेकर अब तक कोई फॉर्मूला तय नहीं हुआ है। पिछले १५ दिनों से एमपी बोर्ड द्वारा बैठकें आयोजित कर रिजल्ट को लेकर कवायद की जा रही है, लेकिन अब तक कोई फॉर्मूला तय नहीं हुआ है। पहले माशिमं सीबीएसइ के फॉर्मूला का इंतजार कर रहा था। सीबीएसई ने 30 फीसद अंक 10वीं, 30 फीसद अंक 11वीं और 40 फीसद अंक 12वीं की आंतरिक मूल्यांकन परीक्षाओं के आधार पर देकर 12वीं का वार्षिक परिणाम घोषित करने का निर्णय लिया है। इसके बाद माशिम के सामने मुश्किल यह है वह भी इस फार्मूले को कैसे अपनाएं, क्योंकि प्रदेश के स्कूलों में बीते साल 11वीं की परीक्षा हुई नहीं और इस साल भी कोरोना के कारण 12वीं की तिमाही और छमाही परीक्षाएं अधिकतर स्कूलों में नहीं हुईं। लिहाजा माशिमं अब नया फॉर्मूला तय कर रहा है, लेकिन इस सब के बीच विद्यार्थी परेशान हैं कि रिजल्ट कैसे तैयार हो रहा है। छात्र-छात्राएं माशिमं के हेल्पलाइन नंबर पर सवाल कर रहे हैं कि रिजल्ट कैसे और कब तैयार होगा। जिले के २७ हजार विद्यार्थी रिजल्ट के फॉर्मूले का इंतजार कर रहे हैं।

विद्यार्थियों को रिजल्ट के फॉर्मूला की चिंता
माध्यमिक शिक्षा मंडल(माशिमं) की हेल्पलाइन नंबर पर विद्यार्थी पूछ रहे हैं। हेल्पलाइन में दसवीं व बारहवीं के मूल्यांकन को लेकर विद्यार्थी सबसे ज्यादा सवाल पूछ रहे हैं। हेल्पलाइन में पांच माह में अब तक 72 हजार कॉल आए हैं। इसमें सबसे ज्यादा बारहवीं के विद्यार्थियों के आ रहे हैं। कुछ विद्यार्थियों ने पूछा कि रिजल्ट तैयार करने के लिए फार्मूला कब तक तय किया जाएगा, किस आधार पर मूल्यांकन की तैयारी चल रही है। काउंसलर विद्यार्थियों के तनाव को दूर रहे हैं। इसमें बोर्ड परीक्षार्थियों के साथ अभिभावकों के कॉल भी शामिल है।

पिछली परीक्षाओं से न हो तुलना

कक्षा बाहरवीं की छात्रा रिद्धी तिवारी ने बताया कि सीबीएसइ के फॉर्मूला पर अब रिजल्ट तैयार नहीं हो रहा है, लेकिन अब तक कोई नया फार्मूला तय नहीं हो इसलिए चिंता बढ़ गई है। उन्होंने बताया कि पिछली परीक्षाओं के आधार पर इस वर्ष का रिजल्ट तय नहीं होना चाहिए। ११वीं क्लास के ज्यादा मेहनत नहीं की थी। वहीं इस वर्ष का यदि प्रीबोर्ड परीक्षा का ४० फीसदी जुड़ा तो इस साल प्रीबोर्ड तक तैयारी पूरी नहीं हुई थी। प्रीबोर्ड का पैर्टन भी पूरा बदला हुआ था, जिससे पेपर अच्छा नहीं गया। ऐसे रिजल्ट बिगड़ सकता है।

नया फॉर्मूला जल्द बनाया जाए

बाहरवीं कक्षा के विद्यार्थी मानस मिश्र ने बताया कि दसवीं और ग्याहरवीं के परीक्षा परिणाम से विद्यार्थियों को जज नहीं किया जा सकता हैं। वहीं निजी विद्यालयों में ग्याहरवीं की परीक्षा भी नहीं हुई। उन्होंने बताया जो भी नया फार्मूला तय हो उसमें दसवीं और ग्याहरवीं के अंक न जुड़े। दसवीं के सब्जेक्ट से हमारे १२वीं के सब्जेक्ट से अलग होते हैं तो उस आधार पर कैसे रिजल्ट बनाया जा सकता है।

Atul sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned