scriptनेता कभी किसी का हो ही नहीं सकता : सुधा सागर | Patrika News
सागर

नेता कभी किसी का हो ही नहीं सकता : सुधा सागर

सच्चा राजनेता न तो बाप देखता है न बेटे को। राजनेता बाहर से सबका होता है भीतर से किसी का नहीं होता है। यह बात निर्यापक मुनि सुधा सागर महाराज ने अपने प्रवचन में पारसनाथ जैन मंदिर कटरा के फर्श पर कही।

सागरJul 10, 2024 / 01:00 pm

रेशु जैन

muni

muni

आचार्य विद्यासागर का 57 वां मुनि दीक्षा दिवस मनेगा, बाहुबली कालोनी से निकलेगी शोभायात्रा

सागर. सच्चा राजनेता न तो बाप देखता है न बेटे को। राजनेता बाहर से सबका होता है भीतर से किसी का नहीं होता है। यह बात निर्यापक मुनि सुधा सागर महाराज ने अपने प्रवचन में पारसनाथ जैन मंदिर कटरा के फर्श पर कही। उन्होंने कहा कि नेता यानी बदबू देता है। यदि ऐसा गुण नहीं हो तो नेता बन नहीं सकता है। नेता कभी किसी का हो ही नहीं सकता। शरीर में आंखें हमारे अलावा सब कुछ देख सकती हैं लेकिन हमें नहीं। जबकि आंखें मेरे काम के लिए है। उन्होंने कहा कि प्रकृति ऐसी मां है जो अपने अन्दर की आवाज सुनकर नियम से पूर्ति करती है। उन्होंने कहा कि तुम संसार का पता लगा लोगे, लेकिन अपने घर में क्या हो रहा ये पता नहीं पाओगे। ज्ञान का काम देखना है, जानना है, समझना है। संसारी प्रानी को अगर देखने में नहीं आता है तो उसका नाम है आत्मा है।
गुरुदेव की अनुपस्थिति में मुनि दीक्षा दिवस

सागर. आषाढ़ शुक्ल पंचमी एवं ऋषि पंचमी 11 जुलाई को उत्कृष्ट समाधी विजेता आचार्य विद्यासागर का 57 वां मुनि दीक्षा दिवस समारोह सागर में विराजमान निर्यापक मुनि सुधासागर महाराज ससंघ के सानिध्य में मनाया जाएगा। सुबह 6 बजे से बाहुबली कालोनी से शोभायात्रा मुनि संघ के सानिध्य में प्रारंभ होगी। 57 पालकियों में 57 श्रीजी की प्रतिमा विराजमान होकर के शोभा यात्रा निकलेगी। गुरुदेव के 57 वें मुनि दीक्षा दिवस को गुरुदेव की अनुपस्थिति मे पहली बार भव्य और दिव्य रूप में मनाया जाएगा। शोभायात्रा बाहुबली कालोनी से गुजराती बाजार, कटरा बाजार, तीनबत्ती, कोतवाली, बड़ा बाजार से होकर मंगलगिरी पहुंचेगी। शोभा यात्रा के मार्ग पर सभी भक्त रंगोली बनाएंगे। सुबह घर के बाहर दीपक जलाएंगे। 11 सदस्यीय एक कमेटी का गठन किया गया। जिसमें राजेश जैन को संयोजक बनाया गया।

Hindi News/ Sagar / नेता कभी किसी का हो ही नहीं सकता : सुधा सागर

ट्रेंडिंग वीडियो