साजिश : युवक ने खुद का अपहरण कराया और परिजनों ने बोरे में भरकर फेक दिया बांध किनारे

युवती को अगवाकर जबरन शादी करने का है आरोपी, कुछ ही घंटों में पुलिस ने कर दिया मामले का खुलासा अब अस्पताल में करा रहा है अपना इलाज

 

सागर. अपहरण और जबरन शादी करने के मामले में फरार आरोपी रविवार को अपने घर से 20 किलोमीटर दूर राजघाट बांध के समीप बोरे में बंद मिला। स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस ने उसे कब्जे में लेकर अस्पताल पहुंचाया। पहले तो आरोपी अपनी इस हालत के लिए फरियादी पक्ष को जिम्मेदार ठहराता रहा। लेकिन कुछ घंटों की पुलिस पड़ताल में यह खुलासा हो गया कि यह सारा ड्रामा आरोपी और उसके परिवार ने मुकदमा से बचने के लिए रचा था। अब पुलिस उसकी गिरफ्तारी की तैयारी कर रही है।
पुलिस सूत्रों के अनुसार मोतीनगर थाना अंतर्गत पंडापुरा निवासी प्रेमनारायण पटैल एकतरफा प्यार में एक लड़की को परेशान कर रहा था। कुछ दिन पहले उसने लड़की को अगवा किया और उससे जबरन शादी भी कर ली। पीडि़ता के परिजनों की शिकायत पर प्रेमनारायण और उसके पिता हरिशंकर पटैल पर अपहरण और जबरन शादी करने का मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में आरोपी पिता की गिरफ्तारी पुलिस ने कर ली थी, लेकिन पुत्र भाग निकला था। पुलिस उसकी तलाश कर ही रही थी कि प्रेमनारायण के परिजनों ने उसकी गुमशुदगी दर्ज करा दी। उनका आरोप था कि लड़की के परिजनों ने उसे गायब कर रखा है। पुलिस इस शिकायत की जांच कर ही रही थी कि रविवार की सुबह गोपालगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत राजघाट बांध के किनारे प्रेमनारायण बोरे में बंद मिला। ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर पहुंची डायल-१०० ने उसे अस्पताल भेजा। चूंकि युवक बिलहरा पुलिस चौकी में दर्ज मामले में फरार था, इसलिए जांच का जिम्मा चौकी पुलिस को सौंप दिया। डॉक्टरों ने स्थिति सामान्य बताई है।

ऐसे खुला राज
पुलिस के अनुसार राजघाट से निकल रहे लोगों ने सुबह संदिग्ध बोरा देखा तो एकत्रित हो गए। पास गए तो पाया कि बोरे के भीतर से कुछ हलचल हो रही थी। हिम्मत करके उसे खोला तो भीतर प्रेमनारायण बंद मिला। उसके हाथ पैर बंधे हुए थे, मुंह और आंख पर भी पट्टी बंधी हुई थी। ग्रामीणों से वह पुलिस के आने तक पट्टी खोलने से मना कर दिया। बहरहाल लोगों ने परिवार का मोबाइल नंबर लेकर संपर्क किया तो घर घटनास्थल से 20 किलोमीटर दूर होने के बाद भी परिजन महज 15 मिनट में ही मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों ने यह भी बताया कि जगह के बारे में नहीं बताए जाने के बाद भी परिवार के लोग सही स्थान पर आ गए। इससे शक होने पर गहराई से जांच की गई तो राज खुल गया।

यह है पूरा मामला
बिलहरा पुलिस चौकी प्रभारी शक्तिकांज गुर्जर ने बताया कि मोतीनगर थाना क्षेत्र के पंडापुरा निवासी प्रेमनारायण पटैल व उसके पिता हरिशंकर पटैल पर युवती को अगवा करने और उससे जबरन शादी करने का मामला पंजीबद्ध है। दो दिन पहले पुलिस ने हरिशंकर पटैल को तो पंडापुरा से गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन प्रेमनारायण पुलिस को देख वहां से भाग निकला। इसके बाद पुलिस लगातार उसकी खोज करने में जुटी थी। रविवार सुबह युवक के राजघाट बांध पर मिलने की सूचना के बाद अस्पताल पहुंचकर उसके बयान दर्ज किए गए और फिलहाल युवक पूरी तरह स्वस्थ है।

साजिश की जांच
पुलिस इस पूरी साजिश की जांच में जुट गई है। यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि प्रेमनारायण के अलावा इस घटना में उसके परिवार के और कौन लोग शामिल हैं। बताया गया है कि परिवार के लोग तीन दिन से गायब बता रहे थे, लेकिन प्रेमनारायण की हालत देखकर पता चल रहा है कि उसे कुछ घंटे पहले ही बोरे में बंद किया गया था।

परिजन लगा रहे अपहरण के आरोप
पुलिस और घटनास्थल से लेकर प्रत्यक्षदर्शियों के बयान जहां बोरे में बंद मिले युवक प्रेमनारायण की सोची समझी साजिश की ओर इशारा कर रहीं हैं, तो वहीं प्रेमनारायण के परिजन अपहरण और लड़की पक्ष पर प्रताडऩा के आरोप लगा रहे हैं। परिजनों ने पुलिस से भी लड़की के पिता और कुछ अन्य लोगों पर प्रेमनारायण को घर से उठा ले जाने के आरोप लगाए हैं।

मदन गोपाल तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned