निजी जमीन पर सामुदायिक भवन बनाने का आरोप, जनपद पंचायत की टीम ने की जांच

निजी जमीन पर सामुदायिक भवन बनाने का आरोप, जनपद पंचायत की टीम ने की जांच

sachendra tiwari | Publish: Mar, 17 2019 10:30:00 AM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

पुरा गांव का मामला

बीना. खजुरिया ग्राम पंचायत के पुरा गांव में जनपद अध्यक्ष द्वारा सामुदायिक भवन के लिए स्वैच्छिक निधि से 9 लाख रुपए राशि दी गई है। जिस जगह यह भवन बनाया जा रहा है वह निजी जमीन बताई जा रही है और इसकी शिकायत भी जनपद पंचायत सीईओ से की है।
शिकायतकर्ता राजेन्द्र यादव ने बताया कि जिस जगह सामुदायिक भवन बनाया जा रहा है वह निजी जमीन है। यदि यह जमीन दान में दी गई है तो उसे रिकॉर्ड में दर्ज कराना जरुरी है। साथ ही वहां जाने के लिए भी कोई रास्ता नहीं है, जिससे रोड से करीब पांच सौ फिट दूर वहां तक लोग पहुंचेंगे कैसे। भवन की स्वीकृति देते समय अधिकारियों द्वारा भी वहां निरीक्षण नहीं किया गया है। यदि वहां भवन बनाया जाता है तो दानपत्र रिकॉर्ड में दर्ज कराया जाए, वहां के लिए रास्ता भी दान में दिया जाए, सामुदायिक भवन के आसपास और जमीन दी जाए, जिससे वहां लोग अपने वाहन खड़े कर सके। शिकायत के बाद एई समीक्षा जैन और पंचायत इंस्पेक्टर नारायण सिंह शनिवार को निरीक्षण करने पहुंचे थे। एई ने बताया कि जिस जगह पर भवन बन रहा है वह जमीन प्रकाश यादव ने दान में दी है और पंचायत में उसका रिकॉर्ड भी है, लेकिन वहां तक पहुंचने के लिए रास्ता नहीं है। रिपोर्ट तैयार कर अधिकारियों को सौंपी जाएगी।
दान में दी है जमीन और पहुंच मार्ग भी है
जिस जगह सामुदायिक भवन बनाया जाना है वह जमीन दान में दी गई है और वहां बाजू में सरकारी जमीन होने से वह जगह पर्याप्त है। रोड से जाने के लिए रास्ता भी है। सामुदायिक भवन बनने से लोगों को लाभ मिलेगा।
सावित्री यादव, जनपद अध्यक्ष, बीना
करा रहे हैं जांच
शिकायत मिलने पर जांच कराई जा रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ जानकारी दे पाएंगे।
सुरेन्द्र साहू, सीईओ, बीना

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned