scriptagonizing pregnant, Nurses and doctors kept bursting firecrackers | दर्दनाक - तड़पती रही गर्भवती, पटाखे फोड़ती रही नर्स और डाक्टर्स | Patrika News

दर्दनाक - तड़पती रही गर्भवती, पटाखे फोड़ती रही नर्स और डाक्टर्स

प्रसूता की दर्दनाक मौत

सागर

Published: November 08, 2021 08:51:51 am

सागर. मध्यप्रदेश के सागर जिले में एक दर्दनाक घटना हुई है. सागर के बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज बीएमसी में एक प्रसूता की मौत हो गई. इस मामले में प्रबंधन ने जांच कराई तो खौफनाक सच्चाई सामने आई. जांच दल व वायरल वीडियो के आधार पर यह बात उजागर हुई कि प्रसूता की मौत स्टाफ की लापरवाही से हुई. अब इस मामले में कार्रवाई की गई है.

nurse.png

स्टाफ मना रहा था दिवाली...
मामले में एक प्रोफेसर को नोटिस दिया गया है जबकि नर्स को निलंबित कर दिया गया है. इसी के साथ 5 डॉक्टरों की ट्रेनिंग पर रोक लगाई गई है. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में दिवाली की रात यह घटना हुई. यहां के लेबर वार्ड में पटाखे, फुलझड़ी जलाने और प्रसूता की मौत के मामले में बीएमसी प्रबंधन ने बड़ी कार्रवाई की है.

bmc.jpg

जांच दल की रिपोर्ट के बाद पटाखे जलाने में शामिल स्टाफ नर्स को निलंबित किया गया है। एक पीजी डॉक्टर सहित चार इंटर्न डॉक्टरों को चेतावनी भरा पत्र जारी किया है। साथ ही इनकी ट्रेनिंग पर रोक लगा दी गई है। इन सभी को गायनी विभाग से हटाकर इनके विभाग प्रमुख के अधीन ड्यूटी करने के निर्देश दिए हैं.

ये है मामला: लेबर रूम में भर्ती पूजा आठ्या (26) की मौत प्रसव के चार घंटे बाद हो गई थी। तब गायनी विभाग के स्टाफ का अंसवेदनशील रवैया सामने आया था, जब लेबर वार्ड में पटाखे और फुलझड़ी जलाई थी। दूसरी ओर प्रसूता को इंजेक्शन देने तक कोई नहीं आया था। आरोप है कि नर्सिंग स्टाफ ने आनन-फानन में 30 इंजेक्शन मंगवाए और दो ही लगे। इसके लगते ही पूजा को झटके आने लगे और उसने दम तोड़ दिया।

bmc2.jpegमीडिया प्रभारी डॉ. उमेश पटेल के अनुसार वायरल वीडियो में रामदेवी अहिरवार, पीजी डॉ. पलास गनवार, इटंर्न डॉक्टरों में डॉ. अफरीन, डॉ. तारुणी गुप्ता, डॉ. जयश्री, डॉ. मीना मैथ्यू आदि अनारदाने, फुलझड़ी जलाते हुए दिखाई दे रही थीं। नर्स अहिरवार को निलंबित किया है। अन्य डॉक्टरों को चेतावनी पत्र जारी कर इन्हें संबंधित विभाग से हटा दिया है।
सोमवार से शुरु होगी क्लास, कोर्स पूरा करने के लिए महज 90 दिन

जवाब तलब
प्रोफेसर डॉ. शिखा पांडेय से 3 दिन में जवाब मांगा है। बताया जाता है कि प्रसूता की मौत के बाद अधीक्षक कार्यालय में हुई बैठक में वे शामिल नहीं हुई थीं। फोन भी नहीं उठाया था। मामले में उन्होंने स्वत: संज्ञान भी नहीं लिया था।
गार्ड पर भी कार्रवाई
इधर, हाइट्स कंपनी के महिला गार्ड को हटाने के निर्देश दिए हैं। वीडियो व जांच रिपोर्ट के आधार पर प्रबंधन ने इसे अनुशासनहीनता माना और कार्रवाई की है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारCovid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासAjmer Urs : 1 फरवरी को उतरेगा संदल, 2 को खुलेगा जन्नती दरवाजाUP Top News: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षक पात्रता परीक्षा आज, दो पालियों में परीक्षाबेहद खतरनाक है ओमिक्रोन, इस अंग को कर रहा खराब, जानिए कैसे करें बचाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.