जा रहे हैं अमरनाथ, तो ऐसे करें तैयारी

1 जुलाई से शुरू हो गई है अमरनाथ यात्रा

By: रेशु जैन

Published: 01 Jul 2019, 06:03 AM IST

सागर. अमरनाथ यात्रा 1 जुलाई से शुरू हो गई है, जो 15 अगस्त यानी रक्षाबंधन तक चलेगी। मौसम और आतंकी हमलों की चुनौतियों को देखते हुए श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने पुख्ता बंदोबस्त किए हैं। इस वर्ष भी बड़ी संख्या में श्रध्दालु शहर से अमरनाथ यात्रा के लिए पहुंचेंगे। वर्षों से अमरनाथ यात्रा पर जाने कमलेश त्रिवेदी ने बताया कैसे इस यात्रा के लिए स्वयं को तैयार रखें। सागर से इस बार लगभग 1000 यात्रियों ने रजिस्ट्रशन करा लिया है। रजिस्ट्रेशन की संख्या में इजाफा हो रहा है।

रजिस्ट्रेशन- अमरनाथ यात्रा के लिए पंजीयन जुलाई तक किए जाएंगे। रजिस्ट्रेशन फॉर्म डाउनलोड किए जा सकते हैं। फॉर्म के साथ अधिकृत डॉक्टर का हेल्थ सर्टिफिकेट और चार पासपोर्ट साइज फोटो (तीन यात्रा परमिट के लिए और एक आवेदन फॉर्म के लिए) जरूरी हैं। यह पूरी तरह फ्री है। अधिकांश लोग ग्रुप में रजिस्ट्रेशन करवाते हैं। ग्रुप रजिस्ट्रेशन में कम से कम 5 यात्री होना जरूरी है।

कौन नहीं कर सकते यात्रा - 13 वर्ष से कम या 75 वर्ष से ऊपर के नागरिक। छह सप्ताह से ज्यादा गर्भ वाली महिलाएं।

रूट - यात्रा के दो रूट हैं- पहलगाम और बालटाल। दोनों रूट पर एक साथ यात्रा चलेगी। रोजाना 7500-7500 श्रद्धालुओं को दोनों रूटों से रवाना किया जाएगा। हालात देखते हुए इस संख्या में बदलाव होता रहता है। पहलगाम का रास्ता ३६ किमी है और बालटाल से १४ किमी है।

कैसे पहुंचे - पहला रूट - जम्मू से पहलगाम (315 किमी) और पहलगाम से चंदनवाड़ी (16 किमी) का रास्ता टैक्सी या बस से तय किया जा सकता है। इसके बाद का करीब २० किमी का सफर पैदल तय करना होगा।

दूसरा रूट - यह थोड़ा मुश्किल है। इसमें जम्मू से श्रीनगर (262 किमी) होते हुए बालटाल (61 किमी) पहुंचा जा सकता है। इसके बाद 14 किमी की चढ़ाई वाला हिस्सा ट्रैकिंग करते हुए पार करना होता है।

खान-पान का बंदोबस्त - पूरे रास्ते चाय स्टाल और छोटे रेस्त्रां हैं। श्रद्धालुओं को सलाह दी जाती है कि वे अपने साथ बिस्किट, टॉफी जैसी चीजें लेकर चलें। ठंड से बचाने के लिए लकड़ी या गैस भी सहज उपलब्ध है।

नहीं चलेंगे मोबाइल - यात्रा के दौरान मोबाइल नहीं चलेंगे। आतंकी हमलों से बचने के लिए मार्ग पर जैमर लगाए गए हैं।

टेक्नोलॉजी - पहली बार यात्रियों के लिए बारकोड स्लिप दी जा रही है। लोकेशन के वाहनों में रेडियो टैग लगेंगे।

खुद को यूं करें तैयार

- बाबा अमरनाथ के दर्शक की इच्छा रखने वालों को एक माह पहले से तैयारी शुरू कर देना चाहिए। श्रद्धालु एक माह पहले से सुबह और शाम चार से पांच किमी पैदल करना शुरू कर दें। शरीर में ऑक्सीजन का स्तर बढ़ाने वाले प्राणायाम करें।

- यात्रा पर जाने के लिए गर्म कपड़े, छोटा छाता जिसे बेल्ट से सिर पर लगाया जा सके, रेनकोट, वाटरप्रूफ ट्रैकिंग जूते, टॉर्च, छड़ी, मंकी कैप, ग्लब्स, जैकेट, ऊन के मोजे रखें।

- यात्रा में शामिल होने वाली महिलाओं को साड़ी नहीं पहनने की सलाह दी गई है। उनके लिए सलवार कमीज, पैंट-शर्ट अथवा ट्रैक सूट सुविधाजनक रहेंगे

रेशु जैन Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned