सेना को अब तक 22 सेंटीमीटर से ज्यादा पानी छोड़ा, कहीं शहर में न हो जाए जल संकट

manish Dubesy

Publish: Apr, 17 2018 02:46:54 PM (IST)

Sagar, Madhya Pradesh, India
सेना को अब तक 22 सेंटीमीटर से ज्यादा पानी छोड़ा, कहीं शहर में न हो जाए जल संकट

सैन्य अफसरों के साथ निगम के अधिकारी करेंगे मौका-मुआयना

सागर. राजघाट बांध से चितौरा एनीकेट के लिए अब तक २२ सेंटीमीटर से ज्यादा पानी छोड़ा जा चुका है। सेना के लिए हर दिन औसतन ३ से ४ सेंटीमीटर पानी छोड़ा जाना था। सोमवार को सेना और नगर निगम के अधिकारियों की टीम राजघाट और चितौरा का निरीक्षण करने वाले थे लेकिन सैन्य अफसरों की अनुपस्थिति के कारण निरीक्षण टल गया। अब अधिकारी मंगलवार को जायजा लेंगे।
पूर्व निर्धारित प्लान के मुताबिक सेना को ११ से १७ अप्रैल तक ३० सेंटीमीटर पानी छोड़ा जाना है। मंगलवार को निरीक्षण के बाद अब यह बात तय होगी कि सेना के पास पर्याप्त पानी पहुंचा है या नहीं।
आखिरी बार छोड़ा पानी
राजघाट से सेना को इस सीजन के लिए आखिरी बार पानी छोड़ा गया है। मानसून आने तक अब सेना को राजघाट से एक बूंद पानी भी नहीं छोड़ा जाएगा। शहर में पेयजल आपूर्ति और चितौरा एनीकेट के लिए पानी छोड़े जाने के कारण बांध का जलस्तर तेजी से गिर रहा है और सोमवार को जलस्तर ५०९ मीटर के दायरे में आ गया। निगम के उपायुक्त डॉ. प्रणय कमल खरे ने बताया कि मंगलवार की दोपहर में दोनों जगहों का निरीक्षण करेंगे। लोगों को चिंता है कि कहीं पानी छोड़ने के कारण उन्हें प्यासा न रहना पड़े।

इधर, फिल्म से बताई पानी की महत्ता
नगर निगम कार्यालय में सोमवार की शाम जल बचाओ अभियान के मद्देनजर बनाई गई डॉक्यूमेंट्री फिल्म का प्रदर्शन किया गया। इसमें 1990 में सागर में व्याप्त जलसंकट की स्थिति एवं वर्तमान में राजघाट जलावर्धन परियोजना से की जाने वाली पेयजल की सप्लाई के समय होने वाले पानी के अपव्यय को दिखाया गया है। फिल्म के प्रदर्शन के बाद महापौर अभय दरे ने कहा कि जल संरक्षण के लिए सभी का सहयोग जरूरी है। इस मौके पर निगमायुक्त अनुराग वर्मा, वरिष्ठ पार्षद नरेश यादव, विनोद तिवारी, पुष्पा पटेल, शारदा कोरी, सीताराम पचकोड़ी समेत अन्य की उपस्थिति रही।

Ad Block is Banned