ब्राह्मणों पर किया जा रहा अत्याचार, विप्र समाज रहा है दूसरों के लिए प्रेरक

पुजारी की हत्या के विरोध में सड़क पर उतरा विप्र समाज

By: anuj hazari

Published: 16 Oct 2020, 10:25 AM IST

बीना. राजस्थान और यूपी में पुजारी की हत्या होने के बाद आरोपियों को सख्त सजा दिलाने की मांग को लेकर ब्राह्मण समाज के लोगों में आक्रोश है, जिसके बाद विप्र समाज ने गुरुवार को सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया। विप्र समाज के लोग गुरुवार दोपहर में सर्वोदय चौराहे पर एकत्रित हुए और ब्राह्मण समाज पर हो रहे अत्याचारों की कड़ी निंदा कर नारेबाजी की। लोगों ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द से जल्द समाज पर हो रहे हमलों पर रोक नहीं लगी तो सरकार के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन करेंगे। विप्र समाज ने तहसीलदार संजय जैन को राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। जिसमें उल्लेख किया गया है कि राजस्थान के बुकना गांव में एक गरीब ब्राह्मण को घेर कर जिंदा जला दिया गया और यूपी के गोंडा जिले में एक पंडित की गोली मारकर हत्या कर दी, जिससे यह स्पष्ट होता है कि देश में किस तरह से अपराधियों के हौसले बुलंद हैं, इस हत्या के खिलाफ देशभर में समाज के लोगों में आक्रोश है। उन्होंने मांग की है कि सभी नामजद हत्यारों की तुरंत गिरफ्तारी की जाए और कठोर सजा दी जाए। पीडि़त परिवार को कम से कम ५० लाख की सहायता राशि दी जाए। मृतक के परिवार में छह लड़की व एक मानसिक रूप से कमजोर लड़का है, जिसके आश्रित को सरकारी नौकरी दी जाए। सरकार को चेतावनी दी है कि मांगों पर विचार कर तुरंत सहायता नहीं दी गई तो सड़कों पर उतरकर उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस अवसर पर सुनील सिरोठिया ने कहा कि जिस तरह से ब्राह्मण समाज के लोगों को टारगेट करके हमला किए जा रहे हंै वह निंदनीय है इस प्रकार के घटनाक्रम नहीं होने चाहिए। पं. दशरथ पुरोहित ने कहा कि ब्राह्मणों को बिना किसी अपराध के उनपर हमले किए जा रहे हंै, जबकि ब्राह्मण समाज दूसरे समाज के लिए प्रेरक हैं। लोगों में अपराध करने के बाद मन में डर नहीं है। ज्ञापन सौंपने वालों में महेशदत्त तिवारी, हरिओम चौबे, सुखनंदन तिवारी, ईश्वर दुबे, जितेन्द्र बोहरे, शुभम तिवारी, सौरभ पटैरिया, देवदत्त तिवारी, अभिषेक बिलगैंया, अमित कटारे सहित बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद रहे।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned