बिना मेहनत घर चलाने के फेर में बन गया चोर

बगैर मेहनत और ईमानदारी से जीने के बजाए एक युवा ने शार्टकट रास्ता अपनाया, जिससे उसे चोरी की लत लग गई

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 18 Aug 2017, 03:33 PM IST

सागर. चोरी की वारदातों को अंजाम देकर लोगों की नींद उड़ाने वाले चोर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लगभग ५ लाख रुपए के सोने-चांदी के जेवर बरामद किए हैं। परिवार का भरण-पोषण नहीं कर पाने के कारण उसने चोरी करना शुरू किया था। वर्ष 2010 में पहली बार तिली क्षेत्र में एक महिला से पर्स छीनने पर पुलिस ने उसे पकड़ लिया था। इसके बाद से वह लगातार चोरी करने लगा। कई जगहों से जेवर-नकदी व दूसरे सामान चुराता रहा। उसने शहर में चोरी की दस वारदातों को अंजाम देने की बात स्वीकार की है। उससे शहर के अन्य स्थानों पर हुई चोरी की वारदातों के संबंध में भी पूछताछ की जा रही है।
एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ल ने गुरुवार को चोरी की वारदातों का खुलासा करके राजू उर्फ राजकुमार अहिरवार की कारगुजारियां उजागर कीं। उन्होंने बताया कि लगातार बढ़ती वारदात के चलते एएसपी पंकज पांडेय के मार्गदर्शन में सीएसपी गौतम सोलंकी के नेतृत्व में टीम बनाई थी। टीम ने चोरी के पुराने मामलों को खंगाला। जेल से जमानत पर बाहर आए बदमाशों की निगरानी शुरू की तो संत रविदास वार्ड उदासी मोहल्ला के राजू उर्फ राजकुमार अहिरवार का नाम सामने आया। वह लंबे समय से खुरई के पास कुटई में ससुराल में पत्नी-बच्चों के साथ रह रहा था, लेकिन शहर में उसे लगातार देखा जा रहा था। पुलिस को यह भी पता चला कि मकरोनिया में अंकुर कॉलोनी, नेहा नगर, प्रभा नगर, शांति विहार, विद्यापुरम में चोरी की वारदातों के समय भी राजू को वहां देखा गया था। पुलिस सक्रिय हुई और 16 अगस्त को उसे नोबल कॉलेज के पास रजाखेड़ी से गिरफ्तार कर लिया।

सागर न्यूज, छतरपुर न्यूज, भोपाल न्यूज, जबलपुर न्यूज, दमोह न्यूज

राजू वर्ष 2010 से ही चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहा है। लगातार जेल जाने के बावजूद उसने यह रास्ता नहीं बदला। राजू के अनुसार सबसे पहले महिला का पर्स चुराने के आरोप में पुलिस ने उसे पकड़ा था। पिटाई के बाद वह चोरी छोड़कर कबाड़ बीनकर बेचने लगा। फायदा नहीं हुआ तो कबाड़ी की सलाह पर चोरी से लोहा काटकर बेचा, इसमें भी पकड़ा गया। जेल में दूसरे लोगों से मुलाकात हुई और बाहर आकर फिर उनके साथ हो गया। वर्ष २०१६ में जेल से छूटने के बाद वह सुसराल चला गया। जब खर्च नहीं उठा पाया तो खुरई से ट्रेन से अप-डाउन करने लगा। राजू व उसके साथी मकरोनिया या अन्य पॉश कॉलोनियों में घूमकर सूने घर और उनके पड़ोस की स्थिति को देखते और मौका लगते ही ताला तोड़कर अंदर घुसकर हाथ साफ कर देते थे।
पद्माकर नगर टीआई वीडी पांडेय के अनुसार पुलिस को राजू से पूछताछ में शहर व आसपास के क्षेत्रों में चोरी की अन्य वारदातों का खुलासा होने की भी संभावना है। इसके चलते कोतवाली,s गोपालगंज, मोतीनगर थाना पुलिस भी राजू से वारदातों के संबंध में पूछताछ कर रही है। उसने पुलिस के सामने दस वारदातों को कबूल किया है। पुलिस ने उससे चोरी की दस वारदातों में चुराए गए जेवर व नकदी सहित करीब 10 लाख रुपए का माल बरामद किया है।

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned