BIg NEWS सागर संभाग में कांग्रेस ने भरी हुंकार, कहा- कहां गए अच्छे दिन, VIDEO

BIg NEWS सागर संभाग में कांग्रेस ने भरी हुंकार, कहा- कहां गए अच्छे दिन, VIDEO

manish Dubesy | Publish: Sep, 10 2018 05:48:07 PM (IST) | Updated: Sep, 10 2018 06:00:53 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

कांग्रेस के बंद का रहा मिला जुला असर

सागर. कांग्रेस का महंगाई के विरोध को लेकर सुबह से ही तीन बत्ती पर कांग्रेसियों का जमावड़ा लगना शुरू हो गया। जिसको लेकर सुबह 11 बजे कांग्रेसियों और पुलिस में नोक झोंक हुई। जिसके बाद पुलिस ने कुछ कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर अस्थाई जेल भेजा। दोपहर में कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव गोविंद सिंह राजपूत विरोध जताने समर्थक के साथ पहुंचे और अपनी गिरफ्तारी दी। इनके साथ पार्टी के सुधांशु त्रिपाठी त्रिपाठी भी मौजूद थे। शहर में बंद का मिला जुला असर रहा। कई दुकानें खुली रहीं। स्कूल लगे। कुछ जगह पर स्कूल बसें न चलने की खबर भी मिली।

sagar  <a href=bharat band Gasoline price increases" src="https://new-img.patrika.com/upload/2018/09/10/sagar_bandg_3391129-m.jpg">


दमोह-बेअसर रहा कांग्रेस का दमोह बंद

राष्ट्रीय कांग्रेस कमेटी द्वारा समूचे भारत को बंद कराए जाने के आह्वान पर दुकानों को भी जिला कांग्रेस कमेटी ने बंद रखी जाने का निर्णय लिया था जिला कांग्रेस कमेटी के सदस्य 10 सितंबर को सुबह से ही सड़कों पर उतर कर व्यापारियों से दुकानें बंद करने की अपील करने लगी थी लेकिन यह बंद पूरी तरह से असफल साबित हुआ दरअसल मध्य प्रदेश शासन के वित्त मंत्री एवं स्थानीय विधायक जयंत कुमार मलैया सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ सुबह से ही पैदल मार्च करते हुए शहर के घंटाघर सहित अनेक मुख्य बाजारों में पहुंचे जहां पर उन्होंने व्यापारियों से दुकानें खोलने की अपील सुबह से ही कर दी थी परिणाम स्वरूप वित्त मंत्री के आश्वासन के बाद व्यापारियों ने अपनी अपनी दुकानें खोलना शुरू कर दी और सुबह से ही कांग्रेस कमेटी का बंद भी असर नजर आने लगा था जिला कांग्रेस कमेटी ने पहले 3:00 बजे तक दमोह बंद करने का निर्णय लिया था इसके बाद उन्होंने दोपहर 1:00 बजे तक बंद रखने का निर्णय लिया लेकिन जब बंद भी असर देखा तो सुबह 11:30 पर ही अनाउंसमेंट कराते हुए व्यापारियों से दुकान खोलने की अपील करने लगे कि अधिकांश दुकानें पहले ही खुल चुकी थी कांग्रेस के आंदोलन के दौरान दोपहर 11:30 पर जब SDM को ज्ञापन सौंपा इस दौरान करीब 80 दुकानें खुल चुकी थी दमोह शहर के अलावा जबेरा हटा तेंदूखेड़ा पथरिया में भी बंद का असर देखने नहीं मिला लेकिन हटा में अधिकांश कांग्रेसियों की शक्ति कारण दोपहर 12:00 बजे तक बंद असरदार देखा गया लेकिन 60 फ़ीसदी दुकानें बंद रही।
पूरी तरह से दुकानों को बंद कराने में हटा कांग्रेस कमेटी भी असफल नज़र आई।

damoh bharat band Gasoline price increases

बीना-बंद का नहीं दिखा असर, रैली बनाकर घूमते रहे कांग्रेस कार्यकर्ता

पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में सोमवार को कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया था। जिसका असर शहर में नहीं दिखाई दिया। सुबह से ही दुकानें खुलना शुरू हो गई थी जो दिनभर खुली रहीं। दुकानें बंद कराने के लिए शहर में कांग्रेस कार्यकर्ता रैली बनाकर घूमते रहे और दुकाने बंद कराईं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं के जाने के बाद दुकानदारों ने तत्काल दुकानें खोल ली थीं। कांग्रेस के बंद को देखते हुए शहर में जगह—जगह पुलिस बल तैनात रहा और रैली के साथ में भी पुलिस घूमती रही। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शांतिपूर्ण तरीके से रैली निकाली।

bina bharat band Gasoline price increases


छतरपुर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और कार्यकारी अध्यक्ष आपस में उलझे, बंद हो गया बंद कराने का अभियान

बंद कराने आए कार्यकर्ता,तो दुकाने बंद, फिर खोलीं
छतरपुर पेट्रोल,डीजल के दामों के मुद्दे पर ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर बुलाया गया बंद छतरपुर में असर नहीं डाल सका। कांग्रेस दफ्तर में बड़े नेताओं का सुबह जमघट नहीं लगा ,तो कार्यकर्ता भी नहीं जुटे। हालांकि कांग्रेस कार्यकताओं का दल सुबह बाजार बंद कराने निकला,तो कुछ दुकाने बंद हो गई,लेकिन बाद में ज्यादातर दुकाने खुल गईं। बड़े नेता बंद कराने देर से निकले। और जब निकले तो बस स्टैंड इलाके में दुकानें बदे कराने के दौरान ही जिला स्तर के दो बड़े नेता आपस में भिड़ गए,इसके बाद कांग्रेस के नेता और कार्यकताओं का उत्साह ठंडा हो गया। बस स्टैंड पर हुए विवाद के बाद कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता कांग्रेस भवन लौट गए। इस वजह से बंद का कार्यक्रम शुरु होते ही ठंडे बस्ते में चला गया।
ये है मामला
बस स्टैंड पर बंद कराने आए कार्यकताओं में से एक संतोष यादव ने कार्यकारी अध्यक्ष को डंडे के सहारे आगे बढऩे के लिए धकेल दिया,जिस पर कार्यकारी अध्यक्ष ने कार्यकर्ता को चांटा जड़ दिया। जिला अध्यक्ष मनोज त्रिवेदी के समर्थक कार्यकर्ता को चांटा पडऩे के बाद जिला अध्यक्ष और कार्यकारी अध्यक्ष आपस में उलझ गए। इस मुद्दे पर दोनों के बीच सबके सामने जमकर कहा-सुनी हुई। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आबिद सिद्दकी ने बीच बचाव किया,तब जाकर मामला शांत हुआ। बंद कराने निकले सभी कांग्रेसी इस घटना के बाद पार्टी कार्यालय लौट गए। जहां उनके बीच इस घटना और बंद को लेकर मंथन हुआ। बैठक के बाद जिला कमेटी के दोनों नेताओं ने मीडिया से बातचीत में किसी भी विवाद से इंकार कर दिया। हालांकि दोनों ने ये माना कि कार्यकर्ता द्वारा बंद कराने के लिए ठेले वाले से जोर जबरदस्ती करने पर उसे डांटा गया। डांटने के इस दृ्श्य को देखकर ये लगा कि आपस में लड़ाई हो रही है। विवाद की वजह से बंद कमजोर होने के सवाल पर दोनों ने विवाद से ही इंकार कर दिया और बंद सफल होने की बाद कही।
कारगर नहीं रहा बंद
कांग्रेस द्वारा बुलाए गए बंद का कोई असर छतरपुर में देखने को नहीं मिला। सरकारी व प्राइवेट स्कूल खुले रहे,व्यापारिक प्रतिष्ठान भी खुले रहे। जरूरी सेवाएं अस्पताल ,परिवहन सेवाएं ,पेट्रोल पंप आदि खुले रहे। हांलाकि बंद कराने निकले कांग्रेसियों ने कुछ दुकाने जरूर बंद करा ली थी,लेकिन उनके जाने के बाद वे दुकानें भी खुल गईं। कांग्रेस के प्रदर्शन के चलते बस स्टैंड पर बसें नहीं गई,लेकिन उनका संचालन स्टैंड के बाहर से चलता रहा। टैक्सी,छोटी दुकानों को लेकर कांग्रेस ने बंद से बाहर रखने की रणनीति अपनाई। इसलिए बस स्टैंड पर बसों को आने से रोकने के बाद कांग्रेस नेता दुकानें बंद कराने बाजार की ओर निकल पड़े। लेकिन इसी दौरान ठेले बंद कराने को कार्यकर्ता द्वारा शुरु किए गए विवाद को लेकर जिला स्तर के नेताओं के आपस में उलझने के बाद बंद का कार्यक्रम ही बंद हो गया। दोपहर 2 बजे के बाद तो शहर में काग्रेस और पुलिस की गतिविधि भी सामान्य दिनों की तरह नजर आने लगी। शहर के किसी भी हिस्से में बंद जैसा नजारा नहीं रहा।
वर्सन
आपस में झगड़े जैसी कोई बात नहीं है, हम दोनों लोग कार्यकर्ता द्वारा छोटे दुकानदारों की दुकान बंद कराने पर डांट रहे थे,हमारे बीच कोई विवाद नहीं हुआ है। बंद सफल रहा,2 बजे तक का आह्वान था।
अनीश खान,कार्यकारी अध्यक्ष,जिला कांग्रेस कमेटी

विवाद जैसी कोई बात नहीं है,हम सभी मिलकर बंद करा रहे थे। छोटे प्रतिष्ठान और जरूरी सेवाओं को छोड़कर सभी प्रतिष्ठान बंद रहेे। हमारी उम्मीद के मुताबिक बंद ठीक रहा।
मनोज त्रिवेदी,अध्यक्ष,जिला कांग्रेस कमेटी

 

 bharat band Gasoline price increases


टीकमगढ़-इस नेता ने भरी हुंकार
टीकमगढ़ में देश में लगातार बढ़ रही मंहगाई और पेट्रोल डीजल के दामों को लेकर कांग्रेंस के द्वारा बुलाए गए भारत बंद का जिले में खासा असर रहा। मुख्यालय पर पूर्व मंत्री ने सड़को पर आकर बंद की अपील की तो जिले के पृथ्वीपुर,बल्देवगढ़,ओरछा,जतारा में बंद का व्यापक असर रहा। नगर में सुबह 9 बजे कॉग्रेसियों ने सडकों पर आकर बाजार बंद कराया। 10 सितम्बर को भारत बंद के दौरान पूर्व मंत्री यादवेन्द्र सिंह ने कहा कि देश ने 4 साल पहले एक ऐसा दौर देखा है। जब वर्तमान में सत्ता में काबिज तत्कालीन भाजपाई पेट्रोल 60 रुपये लीटर होते है। इस तरह हाहाकार मचाते थे मानों मनमोहन सरकार पेट्रोल 150 रुपये लीटर बेच रही हो। जबकि हकीकत में तत्कालीन केंद्र की कांग्रेस सरकार ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का दाम 110 रुपये डॉलर प्रति बैरल होने के बाबजूद केंद्रीय कोष से सब्सिडी देकर पेट्रोल डीजल के दामों को नियंत्रित रखा। वैट एवं एक्साइज की दरों में कटौती की ताकि आम आदमी को महंगाई का दंश न झेलना पड़े। लेकिन सत्ता परिवर्तन के बाद उस समय हाहाकार मचाने वाले भाजपाईयों ने तत्कालीन डायन महँगाई को विकास का नाम देखकर जनता को लूटने में कोई कसर नहीं छोडी। पूर्व मंत्री ने कहा कि आज जब कच्चे तेल के दाम 60 रुपये डॉलर प्रति बैरल आ चुके है। उसके बाबजूद आम आदमी को पेट्रोल 60 रुपये के अंदर देने की जगह केंद्र की मोदी सरकार न सब्सिडी तो छोडिए अपने पेट्रोल डीजल और रसोई गैस पर लागू एक्साइज ड्यूटी को बेइंतहा बढाया। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने देश का सबसे अधिकतम वैट कर लगाकर जनता को लूटा ताकि मुख्यमंत्री की तस्वीर विज्ञापनों के तौर पर अखबारों में छप सके। अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देश पर आज भारत बन्द का आवाहन किया गया जो सफ ल रहा। टीकमगढ में ब्लाक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष डाक्टर इसरार मुहम्मद एवं पूर्व मंत्री यादवेन्द्र सिंह के नेतृत्व में टीकमगढ में रैली निकालकर कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने व्यापारियों से बाजार बंद में सहयोग की अपील की। इस दौरान सूर्य प्रकाश मिक्षा अध्यक्ष कृषि उपज मंडी,महेश यादव अध्यक्ष जिला कांग्रेस कमेटी,देवेन्द्र नापित,शाश्वत सिंह,डा.इसरार मुहम्मद,मनू जैन,रिंकू भदौरा,प्रणव जायसवाल,सलीम मंसूरी, लक्ष्मन रैकवार ,नवाब खान ,संजय नायक ,हबीब राईन ,अरविंद खटीक ,जब्बार खान ,सुनील अहिरवार ,अख्तर शेरा ,लक्ष्मी प्रसाद रजक , सुरेन्द्र सिंह ,महेश चौरसिया ,मनोज पाठक ,गब्बर खान , शेख इरफ ान ,नंदकिशोर रजक ,अशोक वंशकार ,बब्लू प्रजापति ,रामस्वरूप प्रजापति ,देवीलाल अहिरवार ,गिरधारी कबीरपंथी ,राजू दांगी ,राकेश यादव ,विनय यादव आदि मौजूद रहे ।

Ad Block is Banned