भोले के श्रृंगार ने मोह लिया भक्तों का मन

भोले के श्रृंगार ने मोह लिया भक्तों का मन

Reshu Jain | Publish: Feb, 15 2018 04:27:51 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

बड़े बाजार स्थित देव धनेश्वर मंदिर ५१ लीटर दूध से शिवजी का अभिषेक किया गया।

सागर. बड़े बाजार स्थित देव धनेश्वर मंदिर ५१ लीटर दूध से शिवजी का अभिषेक किया गया। सुबह ४.३० बजे से दूध, दही, गंगाजल, नर्मदाजल और पंच मेवा से अभिषेक हुआ। बनारस से आई मोती जडि़त पोषाक से भगवान का शृंगार किया गया। भक्तों ने त्रिपुंड बनवाया और शिवभक्ति में नजर आए।
उमा महेश के रूप में दर्शन
चकराघाट स्थित रामेश्वर मंदिर में शिवरात्रि के मौके पर उमा महेश के रूप में भगवान रामेश्वर ने दर्शन दिए। यहां दोपहर २ बजे से शाम ६ बजे तक भगवान का शृंगार किया गया। ६ शाम बजे से भक्तों के लिए दर्शन हुए। पं. राघवेन्द्र दुबे ने बताया कि उज्जैन की पोषाक से भगवान का शृंगार किया गया। २१ लीटर दूध और कई फलों से भगवान का अभिषेक हुआ।
भोलेनाथ बने दूल्हा, शहर बना बाराती
लक्ष्मीपुरा स्थित सिध्दधाम मंदिर से भगवान शिव और पार्वती की बारात गाजे-बाजे के साथ निकाली गई। बग्गी पर भगवान शिव-पार्वती निकले तो भक्तों ने भगवान पर पुष्प बरसाए। यह बारात जय महाकाल हिन्दू संगठन ने निकाली। बारात में शामिल पालकी को भक्तों ने कंधों पर उठाया। संगठन में शामिल युवा भक्त धर्म ध्वज लेकर आगे बढ़ रहे थे। बारात सिध्दधाम से बड़े बाजार, सराफा, कोतवाली, तीनवत्ती, राधा तिगड्डा से होते हुए पुन: मंदिर में समाप्त हुई। मोनू जैन ने बताया कि यह संगठन द्वारा दूसरी साल बारात निकाली गई।
शिवशक्ति धाम में उमड़ा सैलाब
बहेरिया के शिवशक्तिधाम में महाशिवरात्रि के दूसरे दिन भी भक्तों का तांता लगा रहा। यहां भक्तों के लिए फल और खीर का प्रसाद वितरण किया गया। उधर, खुरई रोड स्थित बड़े महादेव के दर्शनों के लिए भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। भजनों से यहां पूरा वातावरण शिवमय नजर आया। सिंधु संस्कार समिति द्वारा प्रसाद बांटा गया। वहीं बच्चों के लिए
मेले का आयोजन भी किया गया।
छावनी मंदिर में अखण्ड पाठ
छाबनी परिषद स्थित शिव मंदिर में बुधवार शाम को विशेष शृंगार व पूजा-अर्चना की गई। इससे पहले मंदिर परिसर में अखण्ड पाठ का आयोजन हुआ जिसमें छावनी के अधिकारी-कर्मचारियों के अलावा सुरक्षाकर्मी और क्षेत्र के रहवासी भी शामिल हुए। शाम को पूजा-अर्चना उपरांत प्रसादी का वितरण भी किया गया।
पशुपतिनाथ मंदिर में मंगल आरती
भगवान पशुपत? नाथ ?? मंदिर में विभिन्न कार्यक्रम हुए। पं. शिवप्रसाद तिवारी ने बताया कि प्रात: भगवान पशुपतिनाथ का लघु अभिषेक एवं मंगल आरती हुई। दोपहर 12.30 बजे से महाभिषेक एवं पूजन किया जाएगा। शाम को मंदिर से भगवान शिव की बारात निकाली गई।

मंडप पर भगवान का तिलक हुआ
गौरी शंकर मंदिर में सुबह भगवान शिव का अभिषेक हुआ। मार्केण्श्वर मंदिर से यहां बातार पहुंचने पर भगवान का तिलक किया गया। जिसमें बड़ी संख्या में भक्त शामिल हुए।
सुबह ४ बजे से जलाभिषेक
गुप्तेश्वर मंदिर में सुबह ४ बजे से शुरू हुआ जलाभिषेक दोपहर १ बजे तक चला। पं. देवीशरण चौबे ने बताया कि दोपहर २ बजे से भगवान का शृंगार किया गया। रात्रि में मारकंडेश्वर मंदिर से यहां बारात पहुंची। भक्तों ने स्वागत किया। वहीं दिनभर मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती रही। इस दौरान प्रसादी वितरण भी हुआ।
सैनिकों के नाम रूद्राभिषेक
मकरोनिया के श्रीराम दरबार मंदिर में दद्दा शिष्य मंडल ने आतंकी हमले में शहीद सैनिकों के लिए शिवलिंग निर्माण कर महारूद्राभिषेक किया। इस मौके पर पंडित केशव महाराज, सुरेन्द्र सुहाने, वीरेन्द्र गौर, उत्तम सिंह ठाकुर, अखिलेश, चंद्रप्रताप सूर्येश, रीतेश तिवारी, नितिन राठौर, अमित पाठक, महेन्द्र गोस्वामी आदि मौजूद थे।
किया शिवलिंग निर्माण
बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मृत्युंजय महादेव मंदिर समिति के तत्वावधान में आयोजन किया गया। सुबह सांसद लक्ष्मीनारायण यादव, विधायक शैलेंद्र जैन और डीन डॉ. जीएस पटेल ने आरती की। अध्यक्ष डॉ. उमेश पटेल ने बताया कि सुबह शिवलिंग निर्माण शुरू किया गया। इसके बाद भोलेबाबा का अभिषेक हुआ। उपाध्यक्ष डॉ. उमेश मिश्रा ने बताया कि शाम को शुरू हुए भंडारे में सबसे पहले वृद्धाश्रम के वृद्धों को भोजन कराया गया। उन्होंने बताया कि शाम के वक्त गायत्री परिवार की ओर से ५ सौ दीप प्रज्जवलित कर शिव जी की आरती उतारी गई। आयोजन को सफल बनाने वालों में सोनू चुटीले, अभिषेक व्यास, मोहन, आर्य तिलक, अवनीश मिश्रा, डॉ. जेपी मिश्रा, इंद्रजीत सिंह यादव आदि की मुख्य भूमिका रही।
घोड़ा-बग्गी के साथ निकली बारात
पुरानी गल्ला मंडी में स्थित मार्कण्डेश्वर मंदिर से धूमधाम से साथ भगवान शंकर की बरात उठी। भगवान शिव की बरात शाम ५.३० बजे मंदिर से घोड़ा-बग्गी और गाजे-बाजों के साथ निकाली गई। जो पंचदास जूना अखाड़ा मां शारदा मंदिर, मालगोदाम रोड से सिध्देश्वर मंदिर, गीता मंदिर कछयाना, सदर बाजार, कबुला पुल, गुजराती मंदिर, इतवारी टौरी, गुप्तेश्वर मंदिर, पंचमुुखी शिव मंदिर, गौरीशंकर मंदिर कटरा भीतर बाजार से सरस्वती मंदिर से होते हुए नागेश्वर मंदिर पहुंची। यहां पं. गणेश शास्त्री, पं. नरेन्द्र नगाज और पवन चौबे ने नागेश्वर मंदिर में विधि विधान से शंकर जी का विवाह हुआ।
यहां से भी निकली शिव बारात
मकरोनिया के अवंतीबाई वार्ड से शिव बारात निकाली गई। जो मकरोनिया चौराहा होते हुए वापस वार्ड में पहुंची। वार्डवासी शिवभक्तिमें नजर आए। प्रजापति ब्रह्माकुमारी द्वारा शिव महोत्सव मनाया गया। इस मौके पर शिव बारात भी निकाली गई। वहीं तिली गांव बाघराज वार्ड के पशुपति नाथ मंदिर से बाबा भोलेनाथ की झांकी एवं बारात निकाली गई। श्रद्धालु इसमें थिरकते हुए चल रहे थे। जगह-जगह स्वागत किया गया। आयोजन में मुख्य आयोजक हरीसेवक पवार, वीरेंद्र पटेल, चंद्रेश पवार, बृजभान पवार, नरेश पवार, राहुल, श्याम, बल्लू, सौरभ, संजेश व मनोज उपस्थित थे।
संतों के सानिध्य में हुआ शिव-पार्वती विवाह
पटनेश्वर धाम ढाना में बुधवार को संतों के सानिध्य में शिव-पार्वती विवाह हुआ। सुबह ३ बजे महादेव के अभिषेक से महाशिवरात्रि के आयोजन की शुरूआत हुई। भोले के दर्शन करने के लिए मंदिर में देर रात तक श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही। समिति की ओर से दर्शन करने आए श्रद्धालुओं को नि:शुल्क फलाहार व भोजन की व्यवस्था की गई। शाम चार बजे मानस मंदिर से हजारों लोगों के साथ भगवान भोलेनाथ की बारात निकाली गई जो गांव में भ्रमण करते हुए पटनेश्वर धाम पहुंची।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned