यहां शगुन निकालने के बाद तय होगा भाजपा जिलाध्यक्ष का नाम, फिलहाल पूस निकलने का इंतजार

जनवरी को संभागीय संगठन मंत्री सागर में करेंगे मंथन

सागर. भारतीय जनता पार्टी में खाली पड़ा जिला अध्यक्ष पद पौष (पूस) का महीना खत्म होते ही भर दिया जाएगा। पार्टी ने इसके लिए तैयारियां कर ली हैं। कलह रोकने के लिए वरिष्ठ नेता सभी समीकरणों को ध्यान में रखकर एक नाम पर सहमति बनाने पर जोर दे रहे हैं।

जिलाध्यक्ष के पद काबिज होने के लिए शहर सहित जिले भर के कार्यकर्ताओं ने दावेदारी की है। 4 व ५ जनवरी को संभागीय संगठन मंत्री आशुतोष तिवारी कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों व वरिष्ठ नेताओं से मंथन करेंगे। साथ ही संभाग के पांचों जिलों के युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष व महामंत्रियों से भी मुखातिब होंगे। पूर्व अध्यक्ष राजा दुबे के निधन से खाली हुई जिला अध्यक्ष की सीट के लिए आधा दर्जन नेताओं ने दावा पेश किया है।
पार्टी नेताओं की टटालेंगे नब्ज

पिछले दिनों भोपाल में वरिष्ठ नेताओं ने एक बैठक कर सागर जिलाध्यक्ष पद के लिए एक नाम पर सहमति बनाने की कवायद की थी। पार्टी सूत्रों की मानें तो संभागीय संगठन मंत्री आशुतोष तिवारी पार्टी के विभिन्न मोर्चा, प्रकोष्ठों और जिला इकाई के पदाधिकारियों के साथ ही वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करेंगे। बताया जा रहा है कि इस मैराथन मुलाकात में पार्टी की गतिविधियों पर चर्चा तो होगी ही, साथ ही नए जिला अध्यक्ष के नाम पर भी पार्टी नेताओं की नब्ज टटोली जाएगी। संभागीय संगठन मंत्री का जोर जिला अध्यक्ष पद पर किसी एक नाम पर सहमति पर रहेगा।
दोनों मंत्रियों को साधने की कवायद

जिलाध्यक्ष पद के लिए वैसे तो एक पूर्व अध्यक्ष का नाम तय माना जा रहा है लेकिन लेकिन वरिष्ठ नेताओं के बीच चुनावी साल में कोई कलह न हो, इसके लिए मंत्रीद्वय भूपेंद्र सिंह व गोपाल भार्गव सहित पार्टी के पदाधिकारियों की सहमति बनाने की कवायद की जा रही है। जातिगत समीकरण का भी ध्यान रखा जा रहा है।
पार्टी गतिविधियों को लेकर दो दिन प्रवास पर सागर में रहूंगा। पार्टी के मोर्चा, प्रकोष्ठ, कार्यकर्ताओं सहित वरिष्ठ नेताओं से चर्चा होगी। जहां तक जिला अध्यक्ष पद पर चयन का सवाल है तो पौष माह के बाद नाम की घोषणा कर दी जाएगी।
आशुतोष तिवारी, संभागीय संगठन मंत्री

BJP bjp leader
Show More
शशिकांत धिमोले Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned