दोनों जीते, कोई न हारा, लोक अदालत ने बढ़ाया भाईचारा

द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश सुमन श्रीवास्तव के न्यायालय में कुल 19 प्रकरणों का निराकरण हुआ

By: vishnu soni

Published: 10 Mar 2019, 10:00 AM IST

खुरई. सिविल न्यायालय खुरई में शनिवार को नेशनल लोक अदालत का शुभारंभ न्यायालय प्रांगण में सुमन श्रीवास्तव अपर जिला सत्र न्यायाधीश, अध्यक्ष तहसील विधिक सेवा समिति खुरई द्वारा किया गया। इस अवसर पर तृतीय अपर जिला सत्र न्यायाधीश आरती ए. शुक्ला, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम रोहित कुमार तथा गठित खण्डपीठों के सुलहकर्ता, अधिवक्ता, सदस्यगण तथा अन्य अधिवक्तागण एवं विद्युत विभाग, बैंक एवं नगरपालिका के अधिकारी एवं कर्मचारी

उपस्थित रहें।
समन श्रीवास्तव अपर जिला सत्र न्यायाधीश ने बताया कि लोक अदालत में अधिक से अधिक सभी प्रकार के प्रकरणों के आपसी समझौते के आधार पर निराकृत किए जाने का प्रयास किया गया, जिसमें अधिवक्ता संघ एवं समस्त अधिवक्तागण ने प्रकरणों के निराकरण किए जाने का प्रयास किया। लोक अदालत में न्यायालय में लंबित समस्त राजीनामा योग्य प्रकरणों को रखा गया, इसके अतिरिक्त बैंक विद्युत एवं नगरपालिका के प्री-लिटिगेशन प्रकरणों का निराकरण किया गया।
द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश सुमन श्रीवास्तव के न्यायालय में कुल 19 प्रकरणों का निराकरण हुआ जिसमें 79 हजार 904 रुपए की राशि की वसूली की गई एवं 4, लाख 90 हजार रुपए के अवार्ड पारित किए गए। तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश आरती ए. शुक्ला के न्यायालय में कुल 15 प्रकरणों का निराकरण हुआ, जिसमें 5000 रुपए की रशि की वसूली की गई एवं 7 लाख 80 हजार रुपए के अवार्ड पारित किए गए।आरती ए.शुक्ला द्वारा मोटर दुर्घटना दावा प्रकरण उमादेवी विरुद्ध रंधीर यादव के मध्य मृतक मंगलसिंह की पत्नी उमादेवी एवं नेशनल इंश्योरेंश कंपनी के मध्य पांच लाख रुपए में राजीनामा करवाया गया। अधिवक्ता अखलेश सेन एवं अधिवक्ता राजेन्द्र प्रसाद अहिरवार द्वारा उक्त प्रकरण को समझौते के माध्यम से निराकरण करवाए जाने में सहयोग किया। व्यवहार न्यायाधीश वर्ग- रोहित कुमार के न्यायालय में न्यायालय में लंबित 16 तथा नगरपालिका प्रीलिटिगेशन 26 तथा बैंक प्रीलिटिगेशन 01 कुल 43 प्रकरणों का निराकरण किया जिसमें 67 हजार 907 रुपए राशि की वसूली की गई।



vishnu soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned